.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

फूलपुर महोत्स्व जनता का, जनता के द्वारा एवं जनता के लिए है - जिलाधिकारी



विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने किया अपनी प्रतिभा का किया प्रदर्शन 

आजमगढ़ :14दिसम्बर --जिलाधिकारी द्वारा आजमगढ़ महोत्सव 2019 के अन्तर्गत तहसील फूलपुर के रामलीला मैदान में चल रहे फूलपुर महोत्सव में प्रतिभाग किया गया। जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह द्वारा फूलपुर महोत्सव में राष्ट्रीय ग्रामीण आजिविका मिशन के अन्तर्गत स्वंय सहायता समूह की महिलाओं द्वारा स्थल तथा विभिन्न स्कूलों के छात्राओं द्वारा बनाये गये रंगोली का अवलोकन किया गया।
इस अवसर पर पू0 माध्यमिक विद्यालय अम्बारी, फूलपुर के छात्राओं द्वारा सरस्वती वन्दना तथा एकरा पब्लिक स्कूल फूलपुर के छात्राओं द्वारा समुह गान, पूर्व माध्यमिक विद्यालय अम्बारी के छात्राओं द्वारा नात, सोहर तथा पचरा का एक साथ प्रस्तुति की गयी ,पूर्व माध्यमिक विद्यालय अम्बारी के छात्राओं द्वारा पचरा पर आधारित समूहनृत्य की प्रस्तुति की गयी जो काफी मनमोहक रहा तथा लोग मंत्रमुगध हो गये। राजकीय बलिका इण्टर कालेज अम्बारी के ़छात्रआंे द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की गयी। उक्त कार्यक्रमों में प्रतिभाग किए गये छात्र तथा उनसे सम्बन्धित अध्यापकगण की जिलाधिकारी द्वारा सराहना की गयी।इसी के साथ ही उमेश कनौजिया द्वारा धोबिया नृत्य की प्रस्तुति की गयी।
इसी के साथ ही रंगोली, मेंहदी, चित्रकला प्रतियोगिता में परिषदीय विद्यालय अम्बारी कक्षा 1 संे 5 तक, कक्षा 6 से 8 तक के छात्र/छात्राएं द्वारा रंगोली, मेंहदी, चित्रकला काफी रोचक बनायी गयी थी। इसी के साथ ही राम मनोहर लोहिया स्टेडियम टंेगवा, फूलपुर में खेल प्रतियोगिता में 100 मी0 दौड़, लम्बी कूद, गोला फेक, बालीबाल, रस्साकसी, खो-खो तथा कबड्डी के क्रार्यक्रम हुए।
इस अवसर पर जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा कि यह फूलपुर महोत्स्व जनता का, जनता के द्वारा एवं जनता के लिए है। हमारा देश में अनेक विचार, विश्वास, संस्कृति है। हम सभी लोग अपने मौलिक संस्कृति को आधुनिकता में भुलते जा रहे है। हमलोगों को अपने संस्कृति पर बाहरी संस्कृति को हाबी नही होने देना चाहिए। उन्होने कहा कि हमारी लोक विधाएं कहरवा, पचरा, बिरहा, हाल्हा, कजरी, नकटा, सोरठी, सोहर, जांघिया, धोबिया नृत्य आदि लोक विधाएं समाप्त होती जा रही है, उसे हम सभी को पुर्नजिवित रखने की जरूरत है।उन्होेने कहा कि रानी सशक्तिकरण, बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं, स्वच्छता, पर्यावरण, महिला सुरक्षा आदि मुद्दों को लोक विधाओं के माध्यम से समाज में संदेश देने की जरूरत है।
जिलाधिकारी ने कहा कि तहसील स्तर पर महोत्सव कराने का उद्देश्य है कि ग्रामीण/सुदूरक्षेत्र के प्राथमिक/उच्च प्राथमिक/माध्यमिक विद्यालयों के छात्रओं को एक प्लेटफार्म मिले, तथा उनमें एक आत्मविश्वास पैदा है।जिलाधिकारी ने सभी अध्यापकगण से कहा कि लोक विधाएं से सम्बन्धित जो कार्यक्रम कराये जा रहे है, उसे अपने-अपने विद्यालयों में भी छात्र/छात्रओं से कराते रहने की जरूरत है।
इस अवसर पर उप जिलाधिकारी फूलपुर वागिश कुमार शुक्ला, सीओ फूलपुर, फूलपुर तहसीदार, नगर पंचायत अध्यक्ष फूलुपर , प्राथमिक विद्यालय अम्बारी के कल्चरल कार्यक्रम की हेड प्रतिमा यादव, स्मीत यादव, तहसील क्षेत्र के प्रबुद्ध/गणमान्य व्यक्ति, विभिन्न विद्यालयों के अध्यापकगण सहित आमजनता उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment