.

.

.

.

.

.

.

.

,

,

.

.
.

निजामाबाद : जुलूस के दौरान नहीं हुआ था भड़काऊ भाषण,एसपी ने मुकदमा वापस लेने के दिए निर्देश

लाउड स्पीकर की तेज आवाज व भाषा की ग़लतफ़हमी के चलते चौकी प्रभारी ने दर्ज कराया था मामला,03 आरक्षियों समेत हुआ लाइन हाजिर 


निजामाबाद :आजमगढ़: निजामाबाद थाना क्षेत्र के शिवली गांव में रविवार की शाम शिया समुदाय की ओर से निकाले गए जुलूसे अमारी के दौरान कथित रूप से भड़काऊ भाषा में जिदाबाद व मुर्दाबाद का नारा लगाने का मामला सामने आया था जिससे हर कोई हैरत में था । इस मामले में रसीदगंज चौकी प्रभारी ने कार्यक्रम के दो आयोजकों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया था । लेकिन सोमवार को मामले का पटाक्षेप तब हो गया जब एसपी प्रो0 त्रिवेणी सिंह ने मीडिया को बताया की यह सब केवल चौकी प्रभारी द्वारा उर्दू के शब्द न समझने और लाउड स्पीकरों के शोर के चलते हुआ था। इस मामले में उन्होंने सीओ और एलआईयू को मौके पर भेजा था जहाँ पर जांच और वीडियो व ऑडियो सुनने के बाद स्थिति स्पष्ट हो गई की ऐसी कोई भी बात नहीं थी। एसपी ने कहा की दर्ज कराया गया मामला समाप्त करने के निर्देश दे दिए गए हैं। साथ ही उन्होंने लापरवाही पर चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर भी कर दिया है।शिवली गांव में रविवार की शाम को शिया समुदाय की ओर से जुलूस अमारी का कार्यक्रम आयोजित था। इस कार्यक्रम में शिया समुदाय के काफी संख्या में लोग शामिल हुए थे। शिवली गांव से निकलकर मंदुरी निजामाबाद मार्ग पर जा रहे जुलूस में नामी गिरामी मौलाना तकरीर कर रहे थे। सुरक्षा के लिए रसीदगंज चौकी प्रभारी व आरक्षियों की भी ड्यूटी लगी थी। रसीदगंज चौकी प्रभारी कमला शंकर गिरी ने इस कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान जिदाबाद व हिदुस्तान मुर्दाबाद नारा लगाने का आरोप लगाते हुए निजामाबाद थाना में उक्त कार्यक्रम के आयोजक व शिवली गांव निवासी जफर अब्बास पुत्र आले हसन व सैयद कमर अब्बास पुत्र अली हसन के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने की धारा 153 बी भादवि के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया गया। पुलिस की ओर से दर्ज कराए गए मुकदमे की जानकारी जब क्षेत्र के एक समुदाय विशेष के लोगों को हुई तो वे नाराजगी जताते हुए सोमवार को सुबह एसपी से बात की। भड़काऊ भाषण देने के मामले में निजामाबाद थाने में दर्ज कराए गए मुकदमे की जांच एसपी ने सोमवार को सीओ सदर मोहम्मद अकमल खान व एलआईयू इंस्पेक्टर को सौंपी। मौके पर पहुंच कर सीओ सदर ने जांच की। जांच के बाद उन्होंने बताया कि उक्त कार्यक्रम का वीडियो रिकार्डिग देखने पर पाया गया कि कार्यक्रम में लगे ध्वनि विस्तारक यंत्रों में तकनीकी कारणों से आवाज स्पष्ट नहीं आ रहा था। जिसके चलते चौकी प्रभारी समेत अन्य लोगों ने गलतफहमी में उर्दू उच्चारण में बोले गए शब्दों को कुछ और ही समझ लिया गया। सीओ सदर की जांच रिपोर्ट आने के बाद एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह ने रसीदगंज चौकी प्रभारी कमला शंकर गिरी, आरक्षी अवधेश प्रसाद, अभिमन्यु व प्रवीण को तत्काल प्रभाव में लाइन हाजिर कर दिया। एसपी ने दर्ज मुकदमे की जांच निजामाबाद थाना के उपनिरीक्षक विजय प्रकाश मौर्य को सौंप दिया। उन्होंने निर्देश दिया कि दर्ज किए गए उक्त मुकदमे की अंतिम रिपोर्ट लगाकर शीघ्र समाप्त करने की प्रक्रिया की जाए।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment