.

.

.

.

,

,
.

नाबालिगों को वाहन चलाने से रोकें,स्कूलों में संचारी रोग के साथ ही सड़क सुरक्षा पर भी चर्चा हो : मण्डलायुक्त

प्राइवेट बसों, ट्रकों आदि के ड्राइवर्स को संकेतों, सावधानियों के बारे में जानकारी हेतु कक्षायें भी आयोजित की जायः कनक त्रिपाठी

आज़मगढ़ 26 नवम्बर -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने कहा है कि मार्ग दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जरूरी है कि अवयक्त बच्चों को दो पहिया, चार पहिया वाहन चलाने से सख्ती के साथ रोका जाय। इसके साथ ही प्राइवेट बसों, ट्रकों आदि भारी वाहनों के अप्रशिक्षित वाहन चालकों को सड़क सुरक्षा की बुनियादी जानकारी एवं प्रशिक्षण देने हेतु स्थल एवं तिथियों का चयन करते हुए उनकी कक्षायें भी आयोजित की जाये। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने मंगलवार को अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित मण्डलीय सड़क सुरक्षा समिति की अध्यक्षता करते हुए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि स्कूलों में प्रार्थना के समय संचारी रोग की जानकारी देने के साथ ही उन्हें सड़क सुरक्षा की भी जानकारी दिया जाना सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि छोटे बच्चों को वाहन से स्कूल आने से रोकने के लिए स्कूल गेट के बाहर स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाय तथा उस स्टाफ के माध्यम से स्कूल आने वाले बच्चों को चिन्हित कर उसे ऐसा करने से रोकें। उन्होने कहा कि यह कार्य काफी दायित्वपूर्ण है इस लिए इसकी नियमित रूप से जाॅंच भी होनी चाहिए। उन्होंने बच्चों की सुरक्षा के दृष्टिगत स्कूलों में यातायात सिपाही की तैनाती पर भी जोर दिया।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने निर्देश दिया कि मण्डल के जनपदों में जो भी चिन्हित ब्लैक स्पाट हैं वहाॅं आवश्यकतानुसार साईबोर्ड, शाइनेज, बे्रकर, रम्बल स्ट्रिप, जेब्रा क्रासिंग आदि बनवा दिये जायें। उन्होंने इस सम्बन्ध में किये गये सुधारात्मक कार्यों का पूर्ण विवरण उपलब्ध कराने हेतु लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया। इसके साथ ही उन्होंनंे सड़क सुरक्षा से सम्बन्धित किये गये कार्यों का भी ब्योरा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि ब्लैक स्पाट और छोटे बच्चों के वाहन संचालन पर रोक के सम्बन्ध में मण्डलीय अधिकारियों से स्थलीय जाॅंच कराई जायगी। मण्डलायुक्त ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया वाहन चालकों की आॅंख की जाॅंच, कौशल, सावधानियों संकेतों की जानकारी, स्वास्थ्य परीक्षण आदि भी समय-समय पर कराते रहें। इसके अलावा उन्होंने नियमित रूप से वाहन चंेकिंग कराये जाने हेतु निर्देशित किया। श्रीमती त्रिपाठी ने कहा कि बड़ी संख्या में छोटे बच्चे ई-रिक्शे का संचालन करते हुए दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने सहायक संभागीय अधिकारी को तत्काल इस पर रोक लगाने का निर्देश देते हुए कहा कि इस रोक का परिणाम एक सप्ताह में दिखाई देना चाहिए। उन्होंने सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता लाने हेतु नुक्कड़ नाटक, एलईडी वैन, सांस्कृतिक, शार्ट फिल्म आदि का भी सहारा लेने की सलाह दी। बैठक में उपस्थित पुलिस अधीक्षक यातायात तारिक मुहम्मद ने बताया कि आज़मगढ़ में वर्ष 2018 के सापेक्ष इस वर्ष सड़क दुर्घटना में वृद्धि हुई है परन्तु गत वर्ष के सापेक्ष मृत्यु में कमी आई है।
इस अवसर पर संभागीय परिवहन अधिकारी रामवृक्ष सोनकर, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी डा. आरएन चैधरी, संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा एपी वर्मा, अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. एनएल यादव, अधिशासी अभियनता लोनिवि आरके त्रिपाठी, क्षेत्रीय प्रबन्धक रोडवेज पीके तिवारी, सूत्रधार संस्थान के सचिव अभिषेक पण्डित सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment