.

.

.

.

.

.

.

.

,

,

.

.
.

शिक्षक की गोद में प्रलय एवं निर्माण दोनो है,व्यक्ति की सबसे बड़ी पॅूजी ज्ञान है- जिलाधिकारी

शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षक सम्मान समारोह सम्पन्न हुआ 

आजमगढ़ 05 सितम्बर-- शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षक सम्मान समारोह (माध्यमिक शिक्षा एवं बेसिक शिक्षा) राहुल प्रेक्षागृह आजमगढ़ में सम्पन्न हुआ। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षक चन्द्रमान यादव रहे।
इस अवसर पर जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह एवं चार राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षकों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर माॅ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। इस अवसर पर 22 ब्लाकों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 44 बेसिक शिक्षक को उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सम्मानित किया गया। इसी के साथ ही 121 बेसिक शिक्षा एवं 36 माध्यमिक शिक्षा के सेवानिवृत्त शिक्षकों को सम्मानित किया गया।उक्त अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि शिक्षक की गोद में प्रलय एवं निर्माण दोनो है, शिक्षक का कार्य बच्चों को अन्धकार से प्रकाश की ओर बढ़ाना है, व्यक्ति की सबसे बड़ी पॅूजी ज्ञान है और जो ज्ञान संवेदना रहित है, वह रेगिस्तान की तरह होता है। जिलाधिकारी ने कहा कि शिक्षा समावेशी होनी चाहिए, शिक्षक का कार्य चरित्र निर्माण में सहयोग करना है। उन्होने शिक्षकों से कहा कि आपका उद्देश्य बच्चों में यह शिक्षा देना है कि उठो जागो और लक्ष्य को प्राप्त करो।
इस अवसर पर अग्रसेन एवं कस्तुरबा गाॅधी विद्यालय की छात्राओं द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।
इस अवसर पर प्राचार्य डायट, जिला विद्यालय निरीक्षक, बीएसए देवेन्द्र कुमार पाण्डेय सहित शिक्षकगण उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment