.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

,

,
.

आजमगढ़: मंदुरी हवाई पट्टी चालू करने में जांच का पेंच अब तक फंसा हुआ है

विमान उतारने के पहले हो मजबूती की जांच, डीएम ने प्रमुख सचिव नागरिक उड्डयन विभाग को पत्र लिखा

उत्तराखंड की संस्था ने नेशनल हाईड्रोलॉजी प्रोजेक्ट के लिए अपने विमान उतारने की अनुमति मांगी थी 

आजमगढ़। मंदुरी हवाई पट्टी शुरू की जाए, इसकी अनुमति में जांच का पेंच अब तक फंसा हुआ है। विस्तारीकरण के बाद हवाई पट्टी की मजबूती की जांच नहीं हो पाई है। यही वजह है कि यहां विमान उतारने के लिए जिला प्रशासन अनुमति नहीं रहा है। इससे नेशनल हाईड्रोलॉजी प्रोजेक्ट जैसे महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित हो रहे हैं। इसके मद्देनजर हवाई पट्टी की जल्द से जल्द जांच कराने के लिए डीएम एनपी सिंह ने नागरिक उड्डयन विभाग को पत्र भेजा है।
रिजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत चयनित मंदुरी हवाई पट्टी को घरेलू हवाई अड्डे में बदलने का कार्य हो रहा है। इसमें हवाई पट्टी की लंबाई बढ़ाकर 1400 से 1505 मीटर की जा चुकी है। हवाई पट्टी के साथ ही टैक्सी-वे और सब-वे आदि का भी निर्माण हुआ है। हवाई पट्टी की अधूरी बाउंड्री को भी पूरा किया जा चुका है। राजकीय निर्माण निगम की ओर से लगभग 18 करोड़ की धनराशि से टर्मिनल भवन आदि का निर्माण किया जा रहा है। अभी शासन से कुछ धनराशि (लगभग चार करोड़) न मिलने के कार्य अधूरा पड़ा हुआ है। इस बीच नेशनल हाईड्रोलॉजी प्रोजेक्ट का कार्य केंद्र सरकार की ओर से उत्तराखंड की एक संस्था को दिया गया है। प्रोजेक्ट के लिए संस्था गोरखपुर और आजमगढ़ में घाघरा और राप्ती नदी के किनारे अपने विमान और हेलीकॉप्टर आदि उतारने के लिए दो महीने पहले अनुमति मांगी थी। अनुमति देने से पहले नई हवाई पट्टी की मजबूती आदि की जांच आवश्यक थी। इसकी जांच की जानी थी कि विमान उतारना यहां सुरक्षित है कि नहीं। इसके लिए डीएम की ओर से प्रमुख सचिव नागरिक उड्डयन विभाग को पत्र लिखा गया था। वहां से एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को इसके लिए पत्र भेजा गया था। सूत्रों की मानें तो एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से बाबतपुर एयरपोर्ट की शाखा को जांच के निर्देश दिए गए थे। हालांकि ये जांच अभी हो नहीं पाई है। इस बीच उत्तराखंड की संस्था पर प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए दबाव बनाया गया तो उसने अनुमति मिलने तक प्रोजेक्ट पूरा होने से इंकार कर दिया। संस्था की ओर से कमिश्नर से मिलकर अनुमति दिलाने की मांग की गई। कमिश्नर के निर्देश पर डीएम एनपी सिंह ने एक बार फिर हवाई पट्टी की जांच के लिए पत्र भेजा है। प्रोजेक्ट का हवाला देते हुए जांच जल्द पूरी करने की मांग की गई है। डीएम एनपी सिंह का कहना है कि नेशनल हाईड्रोलॉजी प्रोजेक्ट के लिए मंदुरी हवाई पट्टी पर विमान उतारने की अनुमति देने की मांग की गई है। अनुमति से पहले हवाई पट्टी की जांच जरूरी है, क्योंकि इसे नये सिरे से बनाया गया है। जांच के लिए शासन को पत्र भेजा गया है।   

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment