.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

शहीद-ए-आजम भगत सिंह के 112 वें जन्मदिवस पर भारत रक्षा दल ने उन्हेें नमन किया

संगठन के कटरा स्थित स्थित कार्यालय पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन भी हुआ 

आजमगढ़: देश के करोड़ो युवाओं के आदर्श शहीद-ए-आजम सरदार भगत सिंह के 112 वें जन्मदिवस पर शुक्रवार को भारत रक्षा दल के कार्यकर्ताओं ने रैदोपुर त्रिमूर्ति पर स्थापित भगत सिंह की प्रतिमा की साफ-सफाई करके प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हेें नमन किया। माल्यार्पण कार्यक्रम के उपरान्त संगठन के कटरा स्थित कार्यालय पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन कर भगत सिंह के आदर्शो व देशभक्ति पर उपस्थित लोगो द्वारा विस्तृत चर्चा किया गया। शहीद-ए-आजम जयंती की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष उमेश सिंह गुड्डू और संचालन मण्डल अध्यक्ष मोहम्मद अफजल ने किया।
गोष्ठी को संबोधित करते हुए नगर अध्यक्ष मनीष कृष्ण साहिल ने बताया कि भगत सिंह संधु का जन्म 27 सितंबर 1907 को हुआ। भगत सिंह आजादी के नायकों में सबसे अग्रणी है, उन्होंने उस दौरान पूरे भारत को एकसूत्र में पिरोने का काम किया। जिलाध्यक्ष उमेश सिंह गुड्डू ने जेल के दिनों में उनके द्वारा लिखित पंक्तियों का जिक्र करते हुए बताया कि भगत सिंह ने पत्र में लिखा कि किसी ने सच ही कहा है, सुधार बूढ़े आदमी नहीं कर सकते। वे तो बहुत ही बुद्धिमान और समझदार होते हैं। सुधार तो होते हैं युवकों के परिश्रम, साहस, बलिदान और निष्ठा से, जिनको भयभीत होना आता ही नहीं और जो विचार कम और अनुभव अधिक करते हैं। ऐसे महान सोच रखने वाले सदैव अजर-अमर रहेंगे। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से निशीथ रंजन तिवारी, प्रदीप मौर्या, डा. धीर श्रीवास्तव, अनूप श्रीवास्तव, सुनील वर्मा, केशव प्रसाद सोनू, आलोक शर्मा विपुल विश्कर्मा आदि उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment