.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

,

,
.

उद्यमियों की समस्याओं का त्वरित एवं गुणवत्तापूर्ण समाधान किया जाय: मण्डलायुक्त

स्वरोजगार योजनाओं में बैंको की कार्यशैली पर कमिश्नर ने उठाया सवाल 

आज़मगढ़ 31 अगस्त -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने निर्देश दिया है कि उद्यमियों के समक्ष आसन्न समस्याओं का त्वरित गति से गुणवत्तापूर्ण समाधान करना सुनिश्चित किया ताकि ही प्रकरण को बार बार बैठकों में प्रस्तुत करने की जरूरत न पड़े। मण्डलायुक्त ने शनिवार को अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित मण्डलीय उद्योग बन्धु की बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि उद्यमी अर्थ व्यवस्था की धुरी होते हैं, इसलिए इनके समक्ष आ रही समस्याओं के निस्तारण हेतु सम्बन्धित अधिकरी तत्परता दिखायें। श्रीमती त्रिपाठी ने कहा कि यदि उद्यमियों तथा उद्योग स्थापना हेतु इच्छुक लाभार्थियों के समक्ष आ रही समस्याओं का त्वरित ढंग से निस्तारण किया जाता है तो इससे अन्य लोगों को भी उद्योग लगाने हेतु प्रोत्साहन मिलेगा। बैठक के दौरान उद्यमियों के समक्षा आ रही समस्याओं की जानकारी करने पर अवगत कराया गया कि जनपद मऊ के औद्योगिक आस्थान में विद्युत आपूर्ति की समस्या की है जहाॅं स्वतन्त्र फीडर स्थापित किये जाने हेतु 78.93 लाख का बजट शासन स्तर से स्वीकृत परन्तु कार्य अभी तक प्रारम्भ नहीं हुआ है। इस पर अधिशासी अभियन्ता विद्युत को 2-3 दिन में अनिवार्य रूप से कार्य शुरू करा दिये जाने का निर्देश दिया गया। इसी प्रकार औद्योगिक आस्थान आज़मगढ़ में भी स्वतन्त्र फीडर स्थापना का प्रकरण भी प्रस्तुत किया गया जिस पर अधीक्षण अभियन्ता विद्युत द्वारा कार्य शुरू होना बताया गया, जबकि औद्योगिक संगठन के प्रतिनिधि द्वारा कार्य अनारम्भ बताया गया। इस पर मण्डलायुक्त ने अधीक्षण अभियन्ता को तत्काल निरीक्षण कर कार्य पूर्ण कराते हुए 6 सितम्बर तक अवगत कराने हेतु निर्देशित किया। जनपद बलिया के औद्योगिक आस्थान रसड़ा में जर्जर तार बदले जाने के मामले पर अधीक्षण अभियनता विद्युत द्वारा अवगत कराया गया कि सम्बन्धित अधिशासी अधिकारी द्वारा बताया गया है कि 5.50 किमी तार बदला जाना था, जो बदल दिया गया है। इस पर औद्योगिक संगठन के प्रतिनिधि द्वारा कहा गया कि मात्र 1.50 किमी ही तार बदला गया है, जबकि कुल 7 किमी तार बदला जाना था। इस विसंगति पर मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने अधीक्षण अभियन्ता विद्युत को निर्देशित किया कि स्वयं मौका पर जाये पूरे प्रकरण की गंभीरता से समीक्षा करें। मण्डलायुक्त ने स्पष्ट किया कि यदि अधिशासी अभियन्ता द्वारा गलत रिपोटिंग की गयी है तो सम्बन्धिी अधिशासी अभियन्ता को प्रतिकूल प्रविष्टि दी जायेगी। इसी प्रकार मऊ के एक उद्यमी को इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी में छूट दिये जाने के मामले में अधिशासी अभियन्ता विद्युत द्वारा बताया गया कि प्रकरण शासन को भेजा गया है, दिशा निर्देश प्राप्त होते ही तद्नुसार कार्यवाही की जायेगी।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने प्रधानमन्त्री स्वरोजगार गारण्टी योजना एवं मुख्य मन्त्री यूवा स्वरोजगार योजना के की प्रगति की समीक्षा के दौरान पाया कि इन दोनों योजनाओं में बैंकों द्वारा धनराशि उपलब्ध कराये जाने की स्थिति तीनों जनपदों में काफी खराब है। इस पर उन्होने तीनों जनपद के एलडीएम को सख्त निर्देश दिया कि लाभार्थियों को मार्जिन मनी की धनराशि उपलब्ध कराने में अधिक समय नहीं लगना चाहिए तथाी इसकी साप्ताहिक समीक्षा करते हुए लम्बित आवेदन पत्रों का अतिशीघ्र निस्तारण सुनिश्चित किया जाय। इस अवसर पर संयुक्त आयुक्त उद्योग रंजन चतुर्वेदी, उपायुक्त उद्योग बलिया राजीव पाठक, उपायुक्त उद्योग मऊ राजेश रोमन, ज्वाइन्ट कमिश्न वाणिजय कर मुहम्मद यहिया अन्सारी, अधीक्षण अभियन्ता विद्युत अशोक कुमार, उप श्रमायुक्त रोशन लाल, वैज्ञानिक सहायक उप्र प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड ओएच सिद्दीकी, एलडीएम आज़मगढ़ श्याम सुन्दर देवगम, एलडीएम मऊ मनोज कुमार वर्मा सहित अन्य अधिकारी एवं तीनों जनपदों से आये आद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधिगण उपस्थत थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment