.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

,

,
.

मऊ : बिना सत्यापन अधिकारियों ने दिया विद्यालयों की रिपोर्ट नाराज मंडलायुक्त सख्त नाराज

मण्डलायुक्त ने विद्यालयों का स्थलीय निरीक्षण न कर विद्यालयों द्वारा उपलब्ध कराई गयी रिपोर्ट पर जनपद स्तरीय समिति की संस्तुति पर जताई नाराजगी

आज़मगढ़ 25 जुलाई -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने उच्च न्यायालय के आदेश के अनुपालन में जनपद मऊ के निजी डीएलएड (बीटीसी) पाठ्यक्रम की सम्बद्धता की जाॅंच कर आख्या उपलब्ध कराये जाने हेतु गठित जनपद स्तरीय जाॅंच समिति द्वारा विद्यालयों का स्थलीय निरीक्षण कर भौतिक सम्यापन करते हुए विद्यालय द्वारा प्रस्तुत कक्षा कक्षों की संख्या एव माप पर समिति द्वारा हस्ताक्षर कर संस्तुति के साथ पत्रावली सचिव परीक्षा नियामक प्रयागराज को भेजे जाने पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए दोषी अधिकारियों एवं सम्बन्धित विद्यालयों के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही करने की संस्तुति कर दी है। मण्डलायुक्त ने इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि मा0 उच्च न्यायालय में योजिट रिट याचिका संख्या-44703/2017 लोकनाथ महाविद्यालय चन्दौली व दो अन्य बनाम उप्र राज्य व चार अन्य में 17 नवम्बर 2017 को पारित आदेश के के अनुपालन मंे संयुक्त सचिव, शिक्षा के निर्देश पर जनपद मऊ के निजी डीएलएड (बीटीसी) पाठ्यक्रम की सम्बद्धता की जाॅंच हेतु मण्डलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक, उप शिक्षा निदेशक एवं जिला विद्यालय निरीक्षक मऊ को सम्मिलित करते हुए मण्डल स्तर पर जाॅंच समिति का गठन किया गया। जाॅंच समिति द्वारा पूर्वांचल विश्वविद्यालाय जौनपुर द्वारा मान्यता प्राप्त जनपद मऊ के 15 महाविद्यालयों रामशीला गल्र्स डिग्री कालेज ताजोपुर, राजव गांधी गल्र्स पीजी कालेज परदहाॅं, एचए रब गल्र्स डिग्री कालेज जहाॅंगीराबाद, लक्ष्मी नारायण महाविद्यालय पखईपुर, दीप निकेतन महाविद्यालय भाटीकलां करहां, अमरजीत सिंह स्मारक महाविद्यालय सोनाडीह, रामलखन महाविद्यालय जामडीह, श्रीकृष्ण महिला महाविद्यालय सिपाह इब्राहीमाबाद, वीबीएस महाविद्यालय अल्लीपुर, माॅं विन्ध्यवासिनी शिक्षण सेवा ट्रस्ट चक हसन, रहमानिया डिग्री कालेज रोपनपुर हिसामपुर, इन्दु महिला महाविद्यालय भुड़सड़ी (बढ़या), शिवमंगल महिला महाविद्यालय परदहाॅं, माॅं शकुन्तला महिला महाविद्यालय अमारी उमहट तथा समता महाविद्यालय बड़ागाॅंव शामिल हैं, में निजी डीएलएड (बीटीसी) पाठ्यक्रम की सम्बद्धता हेतु भवन की जाॅंच की गयी, जिसमें पाया गया कि महाविद्यालयों में मान्यता प्राप्त कला संकाय व विज्ञान संका हेतु निर्धारित मानक के अनुसार व्याख्यान कक्ष एवं प्रयोगशाला कक्ष का अभाव है। उन्होंने यह भी बताया कि जाॅंच समिति द्वारा यह भी अवगत कराया गया है कि जनपद स्तरीय जाॅंच समिति द्वारा विद्यालयों का स्थलीय निरीक्षण कर भौतिक सत्यापन नहीं किया गया बल्कि विद्यालय द्वारा प्रस्तुत कक्षा कक्षों की संख्या व माप पर हस्ताक्षर कर संस्तुति सचिव परीक्षा नियामक प्रयागराज को भेज दी गयी, जिसके आधार पर डीएलएड की सम्बद्धता प्रदान की गयी।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने इन डिग्री कालेजों मंे पर्याप्त भवन का अभाव होने के बावजूद जनपदीय समिति द्वारा डीएलएड पाठ्यक्रम की सम्बद्धता हेतु संस्तुति करने पर सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए समिति में सम्मिलित जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान इमिलिया मऊ के तत्कालीन प्रभारी प्राचार्य राजीव रंजन मिश्र, तत्कालीन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश कुमार एवं तत्कालीन नगर मजिस्ट्रेट राम अभिलाष के साथ ही विद्यालयों के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही हेतु संस्तुति शासन के सम्बन्धित अनुभागों को भेज दी है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment