.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मण्डलायुक्त ने की समाज कल्याण,पंचायती राज व स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा, जताई नाराजगी

आज़मगढ़ 6 फरवरी -- मण्डलायुक्त जगत राज ने मुख्यमन्त्री सामूहिक विवाह योजना, राष्ट्रीय ग्राम स्वाराज अभियान, मुख्यमन्त्री समग्र ग्राम योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, संस्थागत प्रसव, टीकाकरण तथा अधूरे निर्माण कार्यों कार्यों की प्रगति की समीक्षा में प्रगति कम पाये जाने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को इसमें तत्काल शत प्रतिशत प्रगलि लाते हुए जनपद स्तर से वेबसाइट पर अपलोड कराने का निर्देश दिया है। मण्डलायुक्त द्वारा की गयी समीक्षा में पाया गया कि समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित मुख्यमन्त्री सामूहिक विवाह योजना में जनपद आज़मगढ़ में उपलब्ध धनराशि के सापेक्ष मात्र 13.93 प्रतिशत तथा बलिया में 52.47 प्रतिशत धनराशि व्यय की गयी है। इस सम्बन्ध में उन्होंने उप निदेशक समाज कल्याण को निर्देशित किया कि शासन द्वारा माह तक निर्धारित लक्ष्यों के सापेक्ष शत प्रतिशत प्रगति सुनिश्चित कराते हुए जनपद स्तर से वेबसाईट पर अपलोड कराना सुनिश्चित करें।
मण्डलायुक्त जगत राज द्वारा पंचायती राज विभाग से संचालित राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान की की गयी समीक्षा में स्पष्ट हुआ कि इस कार्यक्रम के तहत जीपीडीपी प्रशिक्षण हेतु उपलब्ध धनराशि के सापेक्ष आज़मगढ़ में 16.71 प्रतिशत धनराशि व्यय की गयी है, जबकि बलिया में न तो कोई धनराशि व्यय की गयी है और न ही प्रतिभागियों को प्रशिक्षण हुआ है। इसी प्रकार मुख्यमन्त्री समग्र ग्राम योजना के तहत आज़मगढ़ में आन्तरिक पक्की गलियों एवं नालियों के निर्माण तथा स्वच्छ पेयजल मद मंे कोई धनराशि व्यय नहीं की गयी है। इन मदों की प्रगति अत्यन्त असन्तोषजनक मिलने पर मण्डलायुक्त ने उप निदेशक, पंचायती राज को निर्देशित किया कि व्यक्तिगत ध्यान देकर माह तक निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत प्रगति सुनिश्चित किया जाय। इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित कार्यक्रमांे की समीक्षा में जनपद बलिया की प्रगति खराब पाई गयी। जनपद बलिया में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष 61.05 प्रतिशत व्यय हुई है, संस्थागत प्रसव में कुल प्रसव के सापेक्ष 70.84 प्रतिश लाभार्थियों को भुगतान किया गया है, जबकि टीकाकरण के अन्तर्गत जेई द्वितीय डोज 71.97 प्रतिशत, मिजिल्स द्वितीय डोज 71.99 प्रतिशत, हेपेटाइटिस-बी बर्थ डोज 69.41 प्रतिशत तथा गर्भवती महिलाआंे में तीन एएनसी 65.12 प्रतिश है। इसी प्रकार स्वीकृत कार्यों के सापेक्ष बलिया में 33.93 प्रतिशत भवनों का हस्तान्तरण किया गया है, जबकि आज़मगढ़ में यह उपलब्धि 36.61 प्रतिशत है। मण्डलायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के इन मदों की प्रगति असन्तोषजनक पाये जाने पर अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य को निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत उपलब्धि लाना सुनिश्चित करंे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment