.

.

.

.

.

.

.

.

,

,

.

.
.

सर्वश्रेष्ठ 46 विद्यालयों के शिक्षकों को दिया गया बेसिक शिक्षा रत्न पुरस्कार

साहित्य समाज का दर्पण है तो शिक्षक समाज का निर्माता है- शिवाकांत द्विवेदी,जिलाधिकारी  

आजमगढ़। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के बैनर तले शिक्षक सम्मान समारोह एवं प्राथमिक शिक्षा में शिक्षक अभिभावक एवं छात्र की भूमिका विषय पर संगोष्ठी का आयोजन नेहरू हाल में गुरूवार को किया गया। जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी शिवाकांत द्विवेदी मौजूद रहे। जिसमे जनपद के सर्वश्रेष्ठ 46 विद्यालयों के शिक्षक स्टाफ को पुरस्कृत कर उन्हें बेसिक शिक्षा रत्न पुरस्कार 2018 से नवाजा गया। समारोह की अध्यक्षता फैजान अहमद व संचालन संजय पांडेय ने किया।   समारोह को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि साहित्य समाज का दर्पण है तो शिक्षक समाज का निर्माता है। बेसिक शिक्षा की मजबूती बेहद आवश्यक होती है उसके लिए जिस तरह से जनपद में बेसिक शिक्षक कार्य कर रहे है वह सराहनीय है। प्रदेश में जनपद की बेसिक शिक्षा की स्थिति बहुत ही अव्वल है। इस समय देखा जा रहा है कि सरकारी विद्यालयों को बेहतर बनाने में शिक्षकों के बीच प्रतिस्पर्धा हो रही है जो सबसे अच्छी बात है। अपने दिनों को याद करते हुए डीएम ने कहा कि प्राथमिक विद्यालय में पढ़कर मैं यहां पहुंचा हूं। क्योंकि सरकारी विद्यालयों के शिक्षक पूरी तरह प्रशिक्षित है। जनपद के 3 लाख 59 हजार बच्चों के भविष्य के निर्माता है, जो पिछले वर्ष के आकड़ों से अधिक है। परिषदीय विद्यालय में बेहतर दाखिले के लिए शिक्षक गर्मी के दिनों में धूप में जाकर स्कूलों में बच्चों का दाखिला कराते है। अब लोगों की धारणा को शिक्षक ही बदल रहे है।
बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेन्द्र पांडेय ने कहा कि जनपद के 46 स्कूलों को बेसिक शिक्षा रत्न पुरस्कार दिया गया है। यह पुरस्कार उच्चतम संख्या के आधार पर दिया गया। उन्होंने आराजी देवारा करखिया प्रथम को 540 की संख्या को बेहद सराहनीय बताते अन्य विद्यालयों के लिए नजीर बताया। इसके अलावा बीएसए श्री पांडेय ने तीन वर्षो से नो ऐडमिशन का बोर्ड लगाने वाले अभिमन्यु यादव को विशिष्ट पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।
पीयूष सिंह यादव ने कहाकि शिक्षकों के हौसला अफजाई के लिए ऐसे आयोजन बहुत आवश्यक है ताकि अन्य शिक्षक इससे प्रेरणा लेकर खुद के विद्यालय को संवारने का प्रयास करें।
अंत के सभी के प्रति आभार जताते हुए आयोजक उप्र प्राथमिक शिक्षक संघ अध्यक्ष अनीता साइलेस ने कहा कि समारोह का उद्देश्य बेसिक शिक्षा को मजबूत करना है। बेसिक शिक्षा को ऊंचाईयों पर पहुंचाने का कार्य शिक्षक कर रहे है, उसमे भी कई शिक्षक ऐसे है जो बेहद उत्कृष्ट कार्यो के जरिये अपने अपने विद्यालयों को निजी विद्यालयों के तर्ज पर स्थापित करा रहे है उन्हें सम्मानित करते हुए यह मंच खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है। क्योंकि यह सम्मान भौतिक सत्यापन के बाद दिया जा रहा है।
कार्यक्रम को डायट प्राचार्य अमरनाथ राय, संयुक्त शिक्षानिदेशक माध्यमिक योगेन्द्र सिंह, एबीएसए विश्वजीत सरोज, उप बेसिक शिक्षा अधिकारी महेन्द्र प्रसाद, नपा अध्यक्ष शीला श्रीवास्तव, भारद के हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव आदि ने संबोधित किया।
इस अवसर पर राजेन्द्र लाल, विजय यादव, मनोज त्रिपाठी, अनिल राय, शिखा मौर्य, कंचन मौर्य, अनिल शर्मा, कन्हैया यादव, गिरिजेश, दिनेश सिंह प्रतिमा पांडेय, प्रियंका श्रीवास्तव, आशा सिंह, प्रतिमा राय, प्रिय राय, सुरेन्द्र नाथ, कमेश, शैलेन्द्र उपाध्याय सहित मंडल के शिक्षक मौजूद रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment