.

.

.

.

,

,
.

मंडलीय अस्पताल: रेडियोलाजिस्ट का मुद्दा उठा तो टाल कर निकल लिए निरीक्षक संयुक्त स्वास्थ्य निदेशक

आजमगढ़ : मंडलीय चिकित्सालय का शुक्रवार को लखनऊ से आए संयुक्त स्वास्थ्य निदेशक अरविंद वर्मा ने चिकित्सा व्यवस्था में सुधार के लिए निरीक्षण किया। इस दौरान जेडी के समक्ष मंडलीय चिकित्सालय में छह माह से रेडियोलाजिस्ट की तैनाती न होने का भी मुद्दा उठा। मगर जेडी स्वास्थ्य जवाब देने से बचते रहे। उन्होंने अस्पताल के अंदर बेड के पास लगे आक्सीजन मशीन से संबंधित वाल्व, मास्क न होने पर प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को फटकार लगाई। निरीक्षण के दौरान डाक्टरों सहित कर्मचारियों में हड़कंप मचा रहा।
संयुक्त स्वास्थ्य निदेशक अरविंद वर्मा के निरीक्षण का पूर्व निर्धारित कार्यक्रम होने की वजह से शुक्रवार की सुबह से ही अस्पताल में साफ-सफाई शुरू कर दी गई थी। लगभग साढ़े 10 बजे जेडी स्वास्थ्य के पहुंचने पर डाक्टरों के साथ ही कर्मचारियों में अफरा-तफरी मच गई। अस्पताल के गेट पर पहुंचते ही कुछ लोगों ने छह माह से रेडियोलाजिस्ट न होने का मुद्दा उठा दिया। कहा मंडलीय चिकित्सालय होने के बाद भी यहां पर रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं की गई है। जबकि पड़ोसी जिले बलिया और गाजीपुर में रेडियालाजिस्ट तैनात हैं। इसके अभाव में मरीजों को भटकना पड़ता है। इस पर जेडी स्वास्थ्य ने शासन स्तर पर रिपोर्ट देने की बात कहते हुए आगे निकल गए। बाद में उन्होंने एक्सरे, पैथोलाजी, सिटी स्कैन मशीन का निरीक्षण किया। अस्पताल के वार्ड में पहुंचने पर बेड पर आक्सीजन मशीन पाया। मशीन के साथ वाल्व और मास्क नहीं लगा था। इस पर उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा.कृष्ण गोपाल सिंह को फटकार लगाई। कहा कि यदि गंभीर मरीज अभी आ जाए,तो कैसे इलाज होगा। इस दौरान उन्होंने मरीजों को मिलने वाले भोजन की भी जानकारी ली। महिला वार्ड के पास शौचालय का बंद दरवाजा खोला,तो टूटी टोटी से पानी गिरता पाया। इस पर भी उन्होंने नाराजगी जताई। अंत में बैठक कर प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को अस्पताल के अंदर पाई गई खामियों को दुरूस्त करने का दिशा-निर्देश दिया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment