.

.

.

.

.

.
.

महिलायें मांगने गयीं थी न्याय, अब खानी पड़ सकती है हवालात की हवा

आजमगढ़:: छेड़खानी के आरोप में फंसे व्यक्ति को निर्दोष बताते हुए पुलिस अधीक्षक आवास पर धरना देने पहुंची तीन महिलाओं को हिरासत में ले लिया गया। घटना रविवार की दोपहर हरबंशपुर स्थित पुलिस अधीक्षक आवास की बतायी गयी है। सोमवार को सिधारी थाने की पुलिस हिरासत में ली गयी महिलाओं को मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल ले गयी।
हिरासत में ली गयी सुभावता देवी पत्नी मग्गन बिंद ने जिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण के दौरान बताया कि उसका पति पेशे से राजगीर है। दीदारगंज थाना क्षेत्र के इरना ग्राम निवासी मग्गन बिंद बीते दिनों नवरंगाबाद ग्राम निवासी एक व्यक्ति के यहां मकान का निर्माण किया था। बकाया मजदूरी मांगने पर मकान का निर्माण कराने वाले व्यक्ति ने उसके पति पर बालिका के साथ छेड़खानी का आरोप लगाया। मग्गन के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया।
इस बात की जानकारी होने पर आरोपी मग्गन की पत्नी सुभावता देवी अपने रिश्तेदार सुघरा देवी पत्नी स्व. दूधनाथ बिंद निवासी ग्राम मीरपुर थाना निजामाबाद एवं सरायमीर क्षेत्र के नंदाव निवासी आशा देवी पत्नी रमाशंकर के साथ रविवार को न्याय की गुहार लगाने पुलिस अधीक्षक आवास पहुंची। वहां कोई सुनवाई न होने पर तीनों महिलाएं धरने पर बैठ गयीं। धरनारत महिलाओं को सिधारी पुलिस के हवाले कर दिया गया।
हिरासत में रहीं तीनों महिलाओं को सोमवार की सुबह मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद उन्हें न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। तीनों महिलाओं का आरोप है कि महिला सशक्तीकरण पर बल देने का दावा करने वाली सरकार के मातहत न्याय मांगने पर हवालात की हवा खानी पड़ी रही है। 

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment