.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

एस टी एफ वाराणसी को बड़ी सफलता,पूर्वांचल का कुख्यात रामाश्रय यादव मुठभेड़ में गिरफ्तार

वाराणसी। बलिया कोर्ट में पेशी के दौरान हथकड़ी सरका कर फरार 12 हजार के इनामी अपराधी रामआसरे यादव को एसटीएफ ने रविवार की भोर में कैंट इलाके में मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार किया तो उससे पूछताछ में चौंकाने वाली जानकारियां मिली हैं। सूत्रों की माने तो कुख्यात इनामी को फरारी के दौरान शरण देने वालों में तराई इलाके के एक पूर्व सांसद तक शमिल थे। नेपाल से लेकर मुंबई तक नेटवर्क तैयार करने वाले रामआसरे इन दिनों चरस की तस्करी करा कर धन जुटा रहा था जिससे एके 47 सरीखे अत्याधुनिक असलहे खरीदे जा सके। आने वाले कुछ माह में कई संगीन वारदात को अंजाम देने की योजना थी। इसके बाद रामआसरे कोर्ट में सरेंडर कर जेल चला जाता और वहां से अपने गिरोह का संचालन करता। फरारी के दौरान रामआसरे ने पेट्रोल पंप की लूट, स्वर्ण व्यवसायी की हत्या कर लूट से लेकर डाक्टर से रंगदारी वसूली थी। बलिया,मऊ, देवरिया और गोरखपुर में आतंक के पर्याय इस अपराधी को काफी दिनों से पुलिस तलाश कर रही थी।
मूल रूप से मधुबन (मऊ) निवासी रामआसरे के बड़े भाई की ससुराल में पट्टीदारों से रंजिश थी जिसमें हत्या करने के बाद से अपराध सजग में सक्रिय हो गया। डेढ़ साल पहले बलिया से फरारी के बाद इनाम घोषित हुआ लेकिन सुराग नहीं मिला। इस बीच एसटीएफ के एएसपी एस आनंद व डिप्टी एसपी विनोद सिंह को जानकारी मिली कि रामआसरे वाराणसी अता-जाता है। इस पर इंस्पेक्टर विपिन राय और शैलेश सिंह के संग पुनीत परिहार,एसआई अमित श्रीवास्तव, अरविन्द यादव की टीम को लगाया गया। एसटीएफ की घेराबंदी देख इनामी ने फायर कर भागने की कोशिश की लेकिन दबोच लिया गया। तलाशी में पिस्टल, फर्जी आधार कार्ड और बाइक मिलने पर कड़ाई से पूछताछ की गयी।
शिकंजे में रामआसरे ने कबूल किया कि सवा साल पहले बलिया से फरारी के बाद वह पटना चला गया। वहां से मुंबई जाकर कुछ दिनों रहा। तराई इलाके के एक पूर्व सांसद के यहां कुछ दिनों तक शरण मिली और वहीं के नेटवर्क से वह नेपाल चला गया। नेपाल में चरस खासी सस्ती होती है और मुंबई सप्लाई करने पर मोटी रकम मिलती थी। कुछ दिनों से अपराधी ने चरस की कई खेप मुंबई भेजी। इससे मिलने वाले धन से वह एके 47 खरीदने आया था। वाराणसी से उसे इलाहाबाद जाना था लेकिन इससे पहले एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया। खास यह कि अपनी बाइक वह कई दिनों तक रेलवे स्टैंड पर खड़ा करता था और मुंबई से लेकर दूसरे स्थानों से ट्रेन से आने के बाद इसे लेकर निकल जाता।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment