.

.

.

.

.

.
.

हुनर रंग महोत्सव: फिर आने के वादे के साथ विदा हुये देश भर से आये रंगकर्मी

आजमगढ़। एक तरफ बेहतर कार्यक्रम सम्पन्न होने की खुशी तो दूसरी तरफ विदाई का गम लेकिन पुरस्कारों की बहार ने ये सारे गम भुला दिये। अगले साल फिर आने के वादे के साथ देश के कोने-कोने से आये रंगकर्मी विदा हो गये। हुनर रंग महोत्सव के समापन समारोह में भव्य कार्यक्रमों के बीच पुरस्कार वितरण समारोह के साथ हुनर रंग महोत्सव 2016 का समापन समारोह सम्पन्न हुआ। समापन समारोह में दर्शकों की उमड़ी भीड़ आयोजकों के हौसले को बुलन्द कर रही थी। महोत्सव की अन्तिम दिन के कार्यक्रम का उदघाटन राजेन्द्र प्रसाद, सिद्वार्थ सिंह, डा0 पियूष सिंह यादव, अनीता साइलेस व अभिषेक जायसवाल दीनू ने दीप प्रज्जवलित कर किया। हुनर संस्थान आजमगढ़ द्वारा आयोजित इस समारोह में पांच दिनों में 40 दलों के लगभग 1000 से ज्यादा कलाकारों के 15 नाटक, 300 से ऊपर नृत्यों की प्रस्तुति हुई। इस सफल आयोजन को सम्बोधित करते हुए डा0 पियूष सिंह यादव ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों के कलाकार आज आजमगढ़ आकर सिद्व कर रहे हैं कि आजमंगढ़ कला साहित्य और संस्कृति की नगरी है। पुरस्कारों की घोषणा से पूर्व विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान के लिए चन्दन बरूआ असम, संजय सतपति उडीसा, रामचन्द्र सासमल उडीसा, विनोद एवं विजय बोरकर छत्तीसगढ़, मो0 जिलानी बिहार, माधव चन्द्र पल्लई उडीसा, सलामत खान मिर्जापुर, करन वर्मा मिर्जापुर, समीर आजाद व गीतांजली कलिता असम सहित 60 कलाकारों को रंगमंच के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए कलाकारों को अंगवस्त्रम, डायरी, पगड़ी व प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया। इस सम्मान समारोह के बाद सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का दौर शुरू हुआ तो देर रात तक चलता रहा। स्थानीय व बाहरी कलाकारों के अद्भुत संगम ने सभी को महोत्सव के रंग में रंग दिया। परिचय ग्रुप राउरकेला उडीसा ने दशावतार नृत्य, सास्वती प्रोग्रेसिव ड्रामा अर्गनाइजेशन ब्रहमपुर उडीसा ने शंखजोरी लोकनृत्य, तथा हुनर संस्थान के बच्चों ने गरबा नृत्य प्रस्तुत कर सभी का भरपूर मनोरंजन किया। लोकगायक विजय प्यारे, अमरजीत विश्वकर्मा, मनीष चौधरी, सागर, सतीश, विनय, मिराज खान ने अपने गीतों से सबको आकर्षित किया। इस हुनर रंग महोत्सव के अखिल भारतीय नाटक एवं लोकनृत्य प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ नाटक का प्रथम पुरस्कार मुद्गलपुरी नाट्य केन्द्र मुंगेर बिहार के नाटक अगर यहि रफ्तार रही तो, द्वितीय पुरस्कार तृष्णा ग्रुप छत्तीसगढ़ के चण्डालिका तथा तीसरा स्थान सास्वती प्रोग्रेसित ग्रुप ब्रहमपुर उडीसा के नाटक लोभ को मिला। नाटकों के व्यक्तिगत वर्ग में सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का प्रथम पुरस्कार मो0 जिलानी बिहार, द्वितीय पुरस्कार नरेन्द्र कुमार ध्रुव छत्तीसगढ, तृतीय पुरस्कार परिचय राउरकेला को मिला। सर्वश्रेष्ठ अभिनेता सुहासिनी सुहानी प्रथम, मो0 जिलानी द्वितीय, रति को तृतीय पुरस्कार मिला। सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता मलाया पंडित व कामेश्वर को मिला। सर्वश्रेष्ठ संगीत का पुरस्कार प्रथम नाटक अगर यहि रफ्तार रही तो के शंकर एण्ड प्रमोद, द्वितीय पुरस्कार नाटक परिचय के कलाकार को मिला। सर्वश्रेष्ठ मंच सज्जा सुमेर भारती, सर्वश्रेष्ठ प्रकाश व्यवस्था सास्वती प्रोग्रेसिव ड्रामा आर्गनाइजेशन के लोभ को मिला। सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार क्रमश: अमृतांशु प्रथम एवं देवस्मिता द्वितीय रहे। सर्वश्रेष्ठ रूप सज्जा का प्रथम पुरस्कार एक नई खोज के इन्द्रबाला मिस्त्री को मिला। नाटकों के बाद नृत्यों के परिणाम घोषित हुए जिसमें सर्वश्रेष्ठ समूह लोक नृत्य सीनीयर के खिताब पर माडर्न डांस एकेडमी छत्तीसगढ व कलिंगा आश्रम उडीसा ने द्वितीय व गोरखा लोक कला मंच नेपाल ने तृतीय स्थान पर कब्जा जमाया। समूह लोक नृत्य जूनियर में निखिला उत्कल कला निकेतन प्रथम, सुआलकुची नटराज कला केन्द्र असम द्वितीय व तृतीय स्थान पर कब्जा किया। आधुनिक समूह नृत्य सीनीयर वर्ग के कड़े मुकाबले में राक स्टार डांस ग्रुप मिर्जापुर प्रथम ने बाजी मारकर पहला स्थान प्राप्त किया। दूसरा व तीसरा स्थान क्रमश: अस्मिता नाट्य मुगलसराय चंदौली तथा राकी डांस एण्ड अर्बिक वल्र्ड म0प्र0 को मिला। जूनियर वर्ग में प्रथम व द्वितीय पुरस्कार राकस्टार डांस एकेडमी मिर्जापुर तथा परिचय राउरकेला उडीसा को मिला। उपशास्त्रीय समूह नृत्य सीनीयर में गणेश आचार्या डांस एकेडमी मिर्जापुर व नटराज नृत्य परिषद राउरकेला ने क्रमश: प्रथम व द्वितीय स्थान प्राप्त किया। जूनियर वर्ग में परिचय राउरकेला उडीसा ने अपना स्थान बनाया। समूह नृत्य शास्त्रीय सीनीयर वर्ग में तृष्णा ग्रुप छत्तीसगढ़ प्रथम, लिप्सा एण्ड ग्रुप द्वितीय तथा निखिला ग्रुप ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। उपशास्त्रीय नृत्य युगल सीनीयर में शीतल शिवांगी व वर्षा वैशाली प्रथम, रूतप्रंका राउत व शुभश्री ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। सर्वश्रेष्ठ सहयोगी दल माडर्न डांस एकेडमी छत्तीसगढ व अनुशासित दल नटराज नृत्य परिषद राउरकेला उडीसा को मिला। रंग जूलूस का पुरस्कार सुआलकुची नटराज कला केन्द्र असम, कालिका डांस एण्ड म्यूजिकल एकेडमी राउरकेला, परिचय ग्रुप उडीसा, निखिला उत्कल कला निकेतन, तथा उत्कल संगीत समाज कटक उडीसा को मिला। कैम्प फायर के पुरस्कारों में तृष्णा ग्रुप छत्तीगढ, गणेश आचार्या डांस एकेडमी मिर्जापुर, एन0सी0आर0 असम, द वूमन चाइल्ड मणिपुर तथा असम के ज्योति कश्यप को मिला। सभी कलाकारों व दलों को स्वागताध्यक्ष अभिषेक जायसवाल दीनू, संस्थान अध्यक्ष मनोज कुमार यादव, अनीता साइलेस व विनयकृष्ण अष्ठाना, नीरज अग्रवाल, अजेन्द्र राय, के0एम0 श्रीवास्तव ने प्रमाण पत्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment