.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़:मौर्य दंपति हत्याकांड को लेकर संगठनों ने कलेक्ट्रेट पर किया प्रदर्शन



आरोपियों को बचाने और परिवार को कोई भी मदद नहीं देने का आरोप लगाया

पिछले 22 दिनों से कलेक्ट्रेट पर धरने पर बैठा है परिवार

आजमगढ़: अहरौला थाना क्षेत्र में जून माह में हुई मौर्य दंपती की हत्या के मामले में नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी का मामला अब तूल पकड़ लिया है। मृतक का पूरा परिवार पिछले 22 दिनों से कलेक्ट्रेट पर धरना दे रहा है लेकिन किसी अधिकारी ने उनकी सुधि नहीं ली। अब परिवार के समर्थन में कई सामाजिक संगठन और राजनीतिक दल खड़े हो गए हैं। सैकड़ों की संख्या में लोगों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट क्षेत्र में जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन किया और पुलिस पर आरोपियों को बचाने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की। इस दौरान लोगों ने एसपी और डीएम को ज्ञापन सौंपा। अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राहुल रूसिया द्वारा सात दिन में कार्रवाई का आश्वासन देने पर लोग शांत हुए। वहीं मृतक के बच्चे अब भी धरने पर बैठे हैं। इसका दावा है कि जब तक गिरफ्तारी नहीं होती वे धरना बंद नहीं करेंगे।
बता दें कि अहरौला थाना क्षेत्र के पारा गांव निवासी निवासी इंद्रपाल मौर्य पुत्र स्व. रामलगन जनरल स्टोर की दुकान कर परिवार का भरण पोषण करता था। 14 जून 2022 को वह अपनी पत्नी शकुंतला के साथ बाइक से जौनपुर जिले के शाहगंज दवा लेने गया था। इंद्रपाल के साथ उसके साढ़ू विकास मौर्य निवासी भरचकिया थाना पवई भी अपनी पत्नी के साथ चिकित्सक के पास गए थे। दवा लेने के बाद दोनों रिश्तेदार अपने परिवार के साथ अपने घर के लिए रवाना हुए लेकिन इंद्रपाल व उनकी पत्नी शकुंतला दोनों घर नहीं पहुंचे। 16 जून को लापता इंद्रपाल मौर्य व उनकी पत्नी शकुंतला का शव फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के अंबारी बाजार के समीप सड़क किनारे स्थित झाड़ी से बरामद हुआ था। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। लेकिन परिवार को आरोप है जो वास्तविक हत्यारें हैं जिन्हें उन्होंने नामजद किया है पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के बजाय बचा रही है। वहीं दूसरी तरफ घटना के कुछ दिन बाद ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य मृतक के घर पहुंचे थे। डिप्टी सीएम के सामने ही अधिकारी ने कहा था कि परिवार को 25 लाख रुपये आर्थिक सहायता दी गई है। डिप्टी सीएम ने परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया था। इसके बाद भी परिवार को किसी तरह की आर्थिक सहायता नहीं मिली। आर्थिक सहायता के लिए मृतक का पुत्र लखनऊ तक गया लेकिन किसी ने उसके दर्द को नहीं समझा। इसके बाद मृतक के पूरे परिवार ने 19 सितंबर को जिला मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया। उस समय उन्हें सात दिन में कार्रवाई का आश्वासन देकर हटा दिया गया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। इससे नाराज होकर मृतक का पुत्र शिवांश मौर्य 17 अक्टूबर से अपने पूरे परिवार के साथ कलेक्ट्रेट पर अनिश्चित कालीन धरना दे रहा है लेकिन किसी ने उसकी सुधि नहीं ली। अब परिवार के समर्थन में भीम आर्मी, जनअधिकार पार्टी, सामाजिक संगठन प्रयास, बहुजन मुक्ति मोर्चा आदि खड़े हो गए है। संगठन के लोगों ने सोमवार को जिला मुख्यालय पर जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। पुलिस पर आरोपियों का बचाने का आरोप लगाते हुए डीएम और एसपी को ज्ञापन सौंपा। मौके पर पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने सात दिन में कार्रवाई का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment