.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ: कमिश्नर व डीआईजी ने बाढ़ क्षेत्र का लिया जायजा,रात में डीएम भी पंहुचे थे



थमा सरयू नदी का जलस्तर, फिर भी खतरे के निशान से 1.82 मीटर ऊपर

बांधों में रिसाव बंद किया गया, भोजन आदि की व्यवस्था की गई है - डीएम

आजमगढ़: जिले के सगड़ी क्षेत्र के देवारा इलाके में सरयू नदी के बढ़ाव का क्रम शनिवार को कुछ थमा। हालांकि अभी सरयू नदी खतरा बिंदु से 182 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। वही दाम महुला के पास रिंग बांध कटने के बाद सैकड़ों परिवारों का पलायन हो चुका है। 2 गांव फिलहाल जल मग्न हैं। ग्रामीण परेशान होकर महुला गढ़वल बांध और राहत शिविरों में पशुओं के साथ डेरा डाल रखे हैं। शुक्रवार की रात को आजमगढ़ के डीएम विशाल भारद्वाज भी मौके पर पहुंचे थे और उन्होंने दावा किया था कि बांधों में जो रिसाव हुआ था। उसको बंद किया गया है। 1500 लोग राहत शिविर में हैं। सब के भोजन का उचित प्रबंध किया गया है। वही एनडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई है। बांध के रिसाव के विषय पर सिंचाई विभाग की लापरवाही की जांच की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ शनिवार को दिन में आजमगढ़ मंडल के कमिश्नर मनीष चौहान व डीआईजी अखिलेश कुमार भी देवारा इलाके में पहुंचकर बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान राहत शिविरों व बाढ़ चौकियों पर की गई व्यवस्थाओं का भी उन्होंने जायजा लिया और दिशा निर्देश दिया। बाढ़ पीड़ितों से बातचीत कर उनकी समस्याओं के बारे में जाना और उसके समाधान पर चर्चा की। कमिश्नर ने कहा कि लगभग 67 गांव प्रभावित हैं। प्रभावित क्षेत्रों में नाव लगाई गई है बाढ़ चौकियों को सक्रिय कर दिया गया है स्वास्थ विभाग तथा पशुपालन विभाग के अधिकारी लगातार यहां पर व्यवस्थाओं को उपलब्ध करा रहे हैं। डीआईजी ने कहा कि जहां-जहां विस्थापन केंद्र स्थापित किए गए हैं वहां पर पुलिस की पिकेट लगाई गई है। इसके अलावा एनडीआरएफ व पुलिस पीएसी के जवान प्रभावित लोगों की मदद के लिए लगे हुए हैं।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment