.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: आशनाई के चलते हुई थी ई-रिक्शा चालक की हत्या, तीन गिरफ्तार


20 मई को ई रिक्शा में मिली थी लाश,पत्नी ने ससुरालियों के खिलाफ दी थी तहरीर

गिरफ्तार लोगों में सिधारी थाने का हिस्ट्रीशीटर भी,दर्ज हैं 18 मुकदमें

आजमगढ़: सिधारी थाना अंतर्गत बैठौली बाईपास मार्ग पर बीते 20 मई को मृत हालत में मिले ई-रिक्शा चालक के मामले में पुलिस ने घटना का खुलासा करते हुए हत्या में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। ई-रिक्शा चालक की हत्या उसकी आसनाई के चलते हुई बताई गई है।
सिधारी क्षेत्र के बैठौली बाईपास मार्ग पर मई महीने के दूसरे पखवाड़े में ई- रिक्शा चालक अजय कुमार का शव उसके वाहन से बरामद किया गया था। मृतक की शिनाख्त होने पर उसकी पत्नी कुसुमलता निवासी ग्राम पूरा पांडेय थाना सिधारी ने भूमि बंटवारे की रंजिश के चलते पति की हत्या कर देने का आरोप अपने ससुराल वालों पर लगाया था। घटना की विवेचना कर रही पुलिस द्वारा इस वारदात में आरोपियों की संलिप्तता नहीं पाई गई। जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि मृतक अजय कुमार पूर्व में क्षेत्र के गेलवारा ग्राम निवासी व हिस्ट्रीशीटर धर्मेंद्र यादव उर्फ उदयी पुत्र रामा का ई- रिक्शा चलाता था। चोरी के मामले में धर्मेंद्र यादव के काफी समय तक जेल में निरुद्ध होने के कारण चालक अजय कुमार वाहन स्वामी धर्मेंद्र की दो पत्नियों को वाहन का हिसाब देता था। बताते हैं कि उसी दौरान धर्मेंद्र के घर की एक महिला से अजय की अंतरंगता बढ़ गई। जेल से जमानत पर रिहा होने के बाद यह बात धर्मेंद्र को पता चली तो उसने अजय कुमार को चालक पद से हटा दिया। इसके बाद चालक अजय धर्मेंद्र के चाचा जयचंद्र यादव का ई- रिक्शा चलाने लगा। यहां भी अजय ने रिक्शा मालिक के घर की महिला के साथ नजदीकियां बढ़ाना शुरू कर दिया। इस बात की भनक जयचंद के परिवार वालों को हुई तो जयचंद्र के पुत्र रमित यादव उर्फ रमता अपने मित्र पवन प्रकाश उर्फ राहुल एवं हिस्ट्रीशीटर चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव के साथ मिलकर चालक अजय कुमार को रास्ते से हटाने की योजना बना ली। योजना के अनुसार घटना वाले दिन तीनों युवक ई-रिक्शा चालक अजय को अपने साथ लिए और सिधारी क्षेत्र के नरौली शराब ठेके पर शराब का सेवन किया। नशे का सुरूर चढ़ने पर रात के अंधेरे में तीनों अजय से बठौली बाईपास चलने की बात कह कर उसे वाहन सहित ले गए और रास्ते में उसकी गला घोंटकर हत्या कर फरार हो गए। सही तथ्य मिलने के बाद सिधारी पुलिस ने स्वात टीम की मदद से शुक्रवार कि सुबह भदुली बाजार स्थित जिन्नाद बाबा मजार के समीप कहीं भागने की फिराक में वाहन का इंतजार कर रहे तीनों अभियुक्तों को दबोच लिया। पकड़े गए आरोपियों में धर्मेंद्र यादव उर्फ उदयी, अमित यादव उर्फ रमता एवं पवन प्रकाश यादव उर्फ राहुल सभी गेलवारा गांव के निवासी बताए गए हैं। इस वारदात में गिरफ्तार किए गए धर्मेंद्र और खुदाई यादव के खिलाफ हत्या व चोरी समेत लगभग डेढ़ दर्जन मामले पंजीकृत बताए गए हैं।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment