.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: कजरी महोत्सव के दूसरे दिन लखनऊ व पूर्वांचल के कलाकारों ने दी प्रस्तुति


कार्यक्रम का उद्घाटन डीएम और एडीएम एफआर ने संयुक्त रूप से किया

सोमवार को अंतिम दिन इनकी होगी प्रस्तुतियां...

आजमगढ़: हरिहरपुर घराना संगीत संस्थान के बैनर तले हरिहरपुर कजरी महोत्सव नगर से सटे हरिहरपुर गांव में दूसरे दिन भी जारी रहा। रविवार की देरशाम कार्यक्रम का उद्घाटन जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज एडीएम एफआर आजाद भगत सिंह द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। इसके बाद मां सरस्वती के चित्र के समक्ष अतिथिगण शंभू नाथ मिश्र, दिनेश श्रीवास्तव, श्रीमती सपना बनर्जी, मोहनलाल द्वारा दीप प्रज्जवलित किया गया। जौनपुर से आई बरखा मिश्र द्वारा कजरी गीत सावन का महीना पवन करे शोर व अरे रामा रिमझिम पड़े ले रस बुनिया गीत से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया वहीं आजमगढ़ की पिंकी शुक्ला ने सावन की महीना में पड़ेला झुलनवा, हे रामा सुनाया तो हरिहपुर घराने के कलाकार अंजनी मिश्रा लखनऊ से चलकर कार्यक्रम में पहुंचे और उन्होंने राग मेघ मल्हार मैं द्रुत ख्याल प्रस्तुति दिए। इसके बाद कजरी दादरा गीतों के माध्यम से दर्शकों का दिल जीता। वहीं पंडित सारनाथ मिश्र जी द्वारा रागयमन में बंदिश छोटा ख्याल व दादरा कजरी गीत प्रस्तुत किया। वहीं सपना बनर्जी द्वारा कजरी दादरा ठुमरी की प्रस्तुति दी गई। मेहमान कलाकार बृजेश धर दुबे गोरखपुर द्वारा कजरी गीत प्रस्तुत किया गया। बृजेश धर दूबे की म्यूजिक टीम में त्रिपुरारी मिश्रा, रानू जॉनशन आदि कलाकारों ने कजरी महोत्सव में चार-चांद लगायां। उपेंद्र राय लखनऊ द्वारा साथ छूटेगा कैसे मेरा आपका व पूर्वी कउने नगरिया मोरा पिया जी का डेरा गीत सुना श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। इसके बाद वीरेंद्र भारती द्वारा गोदना गीत, कजरी पूर्वी अनेकों गीत प्रस्तुत किया गया। इसके बाद दर्शकों की मांग पर उन्होंने कई गीतों को सुनाकर समां बांध दिया। रामाशीष बागी द्वारा कजरी अरे रामा सावन भयल मनभावन और पूर्वी कजरी प्रस्तुत किया गया। अयोध्या से आई गायिका पूजा द्वारा कजरी हमके चुनरी मंगाई दा मोती झील से जाए कि साइकिल से व लोकगीत तनी जोर से गाड़ी हांका मोरे सैयां गाड़ीवान सुनाकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। अंत में बिरहा गायक श्यामसुंदर चौहान, साथी द्वारा देर रात तक बिरहा कजरी की प्रस्तुति किया गया। गायक राहुल नीतिश मिश्र द्वारा कजरी गीत झूला धीरे से झुलाओ बनवारी कृष्णमुरारी ना, घेरी घेरीआएकारी रे बदरिया ना गीत प्रस्तुत कर लोगों को खुब झूमाया। इसके साथ ही सेंट जेवियर्स सम्मोपुर के बच्चों ने कजरी गीत प्रस्तुत किया तो वहीं जौनपुर से आई बरखा मिश्र, वाराणसी के श्यामसुन्दर चौहान-खुशबू राज, फैजाबाद की कजरी गायिका पूजा, तान्या ने अपने प्रस्तुति से सभी को दिल जीतकर कजरी महोत्सव को चार-चांद लगाया। संचालन राजेश रंजन ने किया। म्यूजिक दीपराज मिश्र ने दिया।
मुख्य अतिथि जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज ने कहाकि हरिहरपुर घराना संगीत संस्थान ने हरिहरपुर कजरी महोत्सव के माध्यम से जिस तरह से कजरी गीतों को फिर से लोगों के बीच प्रस्तुति कराकर कजरी गीतों की यादें पुनः जेहन में ताजा कर दिया। ऐसे लोकप्रिय कार्यक्रम हमारे सांस्कृतिक संवर्द्धन के प्रतीक है।
आंगतुकों के प्रति आभार जताते हुए कार्यक्रम आयोजक व हरिहरपुर घराना संगीत संस्थान के अजय मिश्र ने कहाकि हरिहरपुर संगीत घराना अपने माध्यम से संगीत क्षेत्र में आजमगढ़ का नाम हर स्तर से सर्वोच्च स्थान पर पहुंचाने के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने आमजन से अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर तीसरे दिन के कार्यक्रम को सफल बनाने की अपील किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में अध्यक्ष राजेश मिश्र, हृदय मिश्र, प्रवीण मिश्र, राहुल मिश्र, दीपराज मिश्र, नीतिश मिश्र, दुर्गेश मिश्र आदि शामिल रहे।

सोमवार को अंतिम दिन इनकी होगी प्रस्तुति
तीसरे दिन के क्रार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए संस्थान अध्यक्ष राजेश ने बताया कि स्थानीय कलाकार कान्हा किशन मिश्र, नितिज्ञा श्रीवास्तव, अरूणेश मिश्र आशु, शंभुनाथ मिश्र, आदर्श कुमार, पंकज मिश्र बबलू आदि द्वारा अपनी एक से बढकर एक प्रस्तुति दी जाएगी वहीं वाराणसी की कजरी गायिका रानी मिश्र, कोलकाता के गितेशा मिश्र, अम्बेडकर नगर के प्रदीप तिवारी-सौरभ गर्ग व बाम्बे के कलाकार प्रभात सिंह व लकी द्वारा विविध कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment