.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: 05 साल में सबसे कम वर्षा का टूटा रिकार्ड, सूखे की आई नौबत


33 से 50 फीसद के बीच में फसल के नुकसान की आंशका

आजमगढ़: इंद्रदेव की दृष्टि फेर लेने से किसानों को निराशा हाथ लगी है। आंकड़ों के मुताबिक पांच साल में अबकी सबसे कम वर्षा होने से फसलों के 33 से 50 फीसद तक के नुकसान की आशंका है। सरयू में बाढ़ की स्थिति के आंकड़े बताते हैं कि 2017 से 2019 तक बाढ़, 2020 में सामान्य बाढ़, 2021 में बाढ़ और अबकी 27 अगस्त तक सामान्य बाढ़ की स्थिति है। कम वर्षा की स्थिति के दृष्टिगत फसलों की स्थिति के आंकलन मुताबिक 2,84,256 हेक्टेयर में बोआई का लक्ष्य था। 2,31,903 हेक्टेयर में बोआई हो पाई है। विशेषज्ञों की रिपोर्ट के मुताबिक यदि अब भी वर्षा नहीं हुई तो 12,866 हेक्टेयर फसल उत्पादन में 33 से 50 फीसद और 70,786 हेक्टेयर में 30 फीसद गिरावट की आशंका है। इसमें धान की फसल में 2,03,326 हेक्टेयर के सापेक्ष 12866 हेक्टेयर में 33 से 50 और 59,245 हेक्टेयर में 30 फीसद नुकसान हो सकता है।
पांच साल के वर्षा के आंकड़े(मिली मीटर) : वर्ष कब से कब तक वर्षा 2017 15 से 30 जून 7.1 जुलाई 304.00 5 अगस्त 163.2 2018 15 से 30 जून 8.1 जुलाई 85.2 अगस्त 153.00 2019 15 से 30 जून 39.25 जुलाई 360.05 अगस्त 75.12 2020 15 से 30 जून 111.52 जुलाई 199.67 अगस्त 102.29 2021 15 से 30 जून 135.83 जुलाई 91.9 अगस्त 180.42 2022 15 से 30 जून 29.91 जुलाई 181.33 अगस्त-अब तक 65.83 कम वर्षा की रिपोर्ट आपदा विभाग को प्रेषित कर दी है। अब तक के आंकड़ों के अनुसार 33 से 50 फीसद के बीच में फसल के नुकसान की आंशका जताई जा रही है। -आजाद भगत सिंह, एडीएम वित्त एवं राजस्व 

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment