.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: फर्जी प्रमाणपत्र पर नौकरी कर रहे 10 शिक्षकों के खिलाफ एफआइआर


एसटीएफ की जांच में शिक्षकों का प्रमाण पत्र फर्जी मिला था

सुर्खियों में एक वर्ष पूर्व आया था मामला,अब शुरू हुई कार्रवाई

आजमगढ़ : फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर नौकरी कर रहे 10 शिक्षकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू हो गई है। बेसिक शिक्षा प्रशासन की तहरीर पर आरोपितों के तैनाती क्षेत्र के थानों में केस दर्ज हुआ है। एसटीएफ ने बहुत पहले इस मामले की जांच की थी, लेकिन कार्रवाई पर ब्रेक था। महानिदेशक बेसिक शिक्षा विजय किरन आनंद ने संज्ञान लेते हुए पत्र जारी किया, तो कार्रवाई शुरू हो पाई है।
शिक्षकों के फर्जीवाड़ा करने का प्रकरण करीब एक वर्ष पूर्व सुर्खियों में छाया था। उस समय विभागीय जांच हुई, तो कई स्तर पर झोल नजर आया। शासन तक मामला पहुंचा, तो जांच एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) को सौंप दी गई। एसटीएफ की जांच में शिक्षकों का प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया था।
रिपोर्ट पूर्व माध्यमिक विद्यालय जमीन दसावं ब्लाक संसाधन केंद्र अतरौलिया के सहायक अध्यापक नंद लाल, प्राथमिक विद्यालय सीही, सठियांव की नेहा शुक्ला, प्रमोद कुमार सिंह सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय पिछौरा, राजाराम सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय छीरीब्राह्मण, अजीत कुमार यादव, गोविंद पांडेय कंपोजिट विद्यालय फदगुदिया पवई, धीरज सिंह कश्यप सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय गोमाडीह ठेकमा, अविनाश प्रजापति सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय भटपुरवा पठकौली अतरौलिया, राजेश कुमार चौबे सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय राजापट्टी अहरौला व आशुतोष सिंह सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय नरायनपुर साउथ विकास खंड तरवां के खिलाफ लगी थी। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अतुल कुमार ने बताया कि सभी दस आरोपिताें के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। दो शिक्षकों का मामला हाई कोर्ट में चल रहा है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment