.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: प्रभारी मंत्री ने मंडल के विकास कार्यों की बैठक में दिए निर्देश


पात्र लोगों को शत प्रतिशत योजना का लाभ दिया जाना सुनिश्चित करें- डा० संजय निषाद

राज्य मंत्री सहकारिता जे0पी0एस0 राठौर, राज्यमंत्री ऊर्जा व वैकल्पिक ऊर्जा डॉ0 सोमेंद्र तोमर भी उपस्थित रहे

आजमगढ़ : मंत्री, मत्स्य विभाग उ0प्र0 शासन एवं आजमगढ़ मण्डल के प्रभारी मंत्री डॉ0 संजय कुमार निषाद की अध्यक्षता में कल देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आजमगढ़ मंडल के विकास कार्यां एवं पुलिस विभाग की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सहकारिता विभाग, उ0प्र0 शासन श्री जे0पी0एस0 राठौर, राज्यमंत्री ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा विभाग उ0प्र0 शासन डॉ0 सोमेंद्र तोमर, मंडलायुक्त आजमगढ़ श्री विजय विश्वास पंत, डीआईजी श्री अखिलेश कुमार, जिलाधिकारी श्री विशाल भारद्वाज, पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग आर्य, मुख्य विकास अधिकारी श्री आनंद कुमार शुक्ला तथा मंडलीय अधिकारियों के साथ जिला स्तर के अधिकारी उपस्थित रहे।
प्रभारी मंत्री ने विभागीय कार्यां/योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, निराश्रित महिला कल्याण योजना के पात्रों की जांच एक कमेटी बनाकर कराया जाए। उन्होने कहा कि पात्र व्यक्तियों को शत प्रतिशत योजना का लाभ दिया जाना सुनिश्चित करें। मंत्री ने कहा कि पात्र लाभार्थियों के चयन में निष्पक्षता, पारदर्शिता एवं ईमानदारी रखें, इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही अथवा गलत पात्रों के चयन पर कठोर कार्यवाही की जाएगी।
प्रभारी मंत्री ने बाढ़ से बचाव कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि 20 मई से पहले सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाए। उन्होंने कहा कि समर्पित/कर्मण टीम तैयार कर छोटी-छोटी समस्याओं को प्राथमिकता से निस्तारित कराएं। उन्होंने कहा कि बांधों के रेन कट एवं गड्ढों को मिट्टी डालकर भर दिया जाए। उन्होंने कहा कि बाढ़ के समय बोल्डर तार से बधे पत्थर से कटान बहाव (पानी) को रोका जाए। उन्होंने कहा कि बंधों पर बसे हुए व्यक्तियों को हटाने से पहले उनको ग्राम समाज की जमीन आवंटित कर सरकारी आवास की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। डॉ0 निषाद ने कहा कि बांध पर दोनों तरफ से गाड़ियों के आने जाने के लिए बांध को मजबूत एवं समतलीकरण कराना सुनिश्चित करें।
मंत्री ने भीषण गर्मी को देखते हुए जानवरों को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए तालाबों को नहरों से भरे जाने का निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनपद के सभी पोखरे एवं तालाबों का सुंदरीकरण अमृत सरोवर योजना के अंतर्गत कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही मनरेगा ग्राम सभाओं मे जहां तालाब अथवा पोखरे नहीं हैं, वहां पर नये पाखरे खोदवाकर पानी भरवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि अगली बैठक में जनपद के सभी पोखरी/जलाशयों की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए।
प्रभारी मंत्री ने पशुपालन विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि जनपद के सभी निराश्रित गोवंश को गौ आश्रय स्थल पर रखना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गौ आश्रय स्थल पर भूसा, हरा चारा एवं पानी की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए। पशुओं को धूप से बचाने के लिए आवश्यकतानुसार टीन शेड का निर्माण कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गौ आश्रय स्थलों की निगरानी के लिए जूम मीटिंग के माध्यम से पशु चिकित्सकों एवं उसकी देखरेख करने वाले कर्मचारियों की उपस्थिति दर्ज कराई जाए। मंत्री ने कहा कि पशु चिकित्सालयों का भी भौतिक सत्यापन किया जाना सुनिश्चित करें।
स्वास्थ विभाग की समीक्षा करते हुए प्रभारी मंत्री ने स्वास्थ विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि अस्पताल में शुद्ध पेयजल एवं साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि मरीजों को सभी दवाएं अस्पताल से ही दिया जाना सुनिश्चित करें तथा एंबुलेंस के कॉल आने पर 10 मिनट के अंदर पहुंचना सुनिश्चित करें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि कोविड-19 के टीकाकरण में तेजी लाएं तथा आगामी कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए ऑक्सीजन के सारे प्लांटों की जांच कर क्रियाशील कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशा के अनुसार जनपद के जिला स्तरीय अस्पताल को मॉडल के रूप में विकसित करें, जहां पर चिकित्सकों की उपस्थिति अनिवार्य हो तथा सारी सुविधाएं उपलब्ध हो। प्रभारी मंत्री जी ने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल का प्रॉपर संचालन सुनिश्चित करें। कंट्रोल रूम में पर्याप्त संख्या में कर्मचारियों की तैनाती कराना सुनिश्चित करें तथा पर्याप्त संख्या में टेलीफोन लाइन भी उपलब्ध हो। उन्होंने निर्देश दिया कि जनपद के सभी प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सकों की उपस्थिति एवं दवाओं की उपलब्धता शत-प्रतिशत सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी का निर्देश है कि सभी प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर आने वाले मरीजों को अस्पताल से ही दवाएं उपलब्ध कराई जाए।
प्रभारी मंत्री ने बेसिक शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत अधिक से अधिक बच्चों का नामांकन कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कायाकल्प योजना के अंतर्गत स्कूलों की चहारदीवारी, पानी, फर्नीचर तथा टाइल्स आदि लगाया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि प्राथमिक/जूनियर स्कूलों को आदर्श विद्यालय बनाने का प्रयास किया जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों के स्कूल आने जाने की निगरानी करें, यदि कोई बच्चा 2 दिन स्कूल नहीं आता है तो उसके घर नोटिस भेजें, बच्चों के अभिभावकों को जिम्मेदारी का अहसास कराएं। उन्होंने कहा कि एक साथ अध्यापकों को छुट्टी न दे। उन्होंने कहा कि उनकी उपस्थिति क्लास रूम में खड़े होकर जूम ऐप के माध्यम से कराना सुनिश्चित करें।
प्रभारी मंत्री ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा की समीक्षा करते हुए कहा कि सर्वे कराकर अधिक से अधिक पात्र व्यक्तियों को राशन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि खाद्य निरीक्षक अपने क्षेत्रों में जाकर पात्र व्यक्तियों को चिन्हित कर राशन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। जनपद के सभी दिव्यांगों को अंत्योदय कार्ड से आच्छादित कर राशन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिया कि कोई भी पात्र व्यक्ति योजना से वंचित न रहे तथा ऐसे व्यक्ति जो पात्र न होते हुए भी योजना का लाभ ले रहे है,ं उनका नाम सूची से काट दिया जाए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री अंत्योदय कार्ड धारकों को अंतरविभागीय समन्वय स्थापित कर आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि पात्रों को दौड़ना न पड़े, घर-घर जाकर कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें।
डॉ0संजय कुमार निषाद ने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण/शहरी की समीक्षा करते हुए कहा कि बन चुके आवासों का शत प्रतिशत टेक्निकल परीक्षण कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि आवासों की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पात्र व्यक्तियों को ही आवास की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। प्रभारी मंत्री ने गेहूं क्रय केंद्रों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी क्रय केंद्रों पर जाकर स्वयं निरीक्षण करें। किसानों के समस्याओं के बयान दर्ज किया जाए। उन्होंने कहा कि किसानों से अनुरोध करें कि कम से कम उपज का 50 प्रतिशत गेहूं क्रय केंद्र पर बेचना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गेहूं देने वाले किसानों को अगले सीजन में समय से उनके धान/गेहूं का क्रय करें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी क्रय केंद्रों पर बोरे की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करें। मंत्री ने कहा कि नैनो यूरिया के नए उत्पाद का व्यापक प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी ब्लॉकों में किसानों को नैनो यूरिया के प्रयोग करने के बारे में एवं उसके लाभ/हानि के संबंध में जागरूक किया जाए।
डॉ0 निषाद ने मत्स्य पालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि गरीबों व छोटे किसानों को मछली पालन से जोड़े। उन्होंने कहा कि मत्स्य पालकों के पास जाकर योजनाओं की जानकारी से अवगत कराएं। उन्होंने कहा कि ब्लाकों व तहसीलों में मत्स्य पालन योजना की होर्डिंग लगवाएं। उन्होंने कहा कि ब्लॉक व तहसील लेवल पर मेले लगाकर जन जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाएगा। डॉ0 निषाद ने कहा कि मुख्यमंत्री जी की मंशा है कि उत्तर प्रदेश को मत्स्य पालन में नंबर एक बनाया जाए। इसलिए अधिक से अधिक हैचरी को चिन्हित कर अच्छे उन्नत किस्म के बीज को मत्स्य पालकों को उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि जनपद में जितने भी मत्स्य पालक हैं, उनका शत प्रतिशत क्रेडिट कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। मंत्री ने पंचायती राज विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि निर्मित सामुदायिक शौचालयों की गुणवत्ता की जांच कराएं। उन्होंने कहा कि टेक्निकल जांच के लिए दूसरे विभाग के अधिकारियों को लगाया जाए। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत में निर्माणाधीन ग्राम पंचायत भवन का लगातार निरीक्षण करते रहें तथा पंचायत भवन के अंदर सरकार की सभी योजनाओं की जानकारी प्रिन्ट करायी जाए तथा आवश्यक हेल्पलाइन नंबर भी दर्ज कराया जाए।
प्रभारी मंत्री ने चकबंदी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि चकबंदी से संबंधित लंबे समय से लंबित विवादों को चिन्हित कर निस्तारित कराएं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी का निर्देश है कि घरौनी को प्राथमिकता से दर्ज कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि वरासत खतौनी, वरासत के मामलों को एक निश्चित समय सीमा के अंदर निस्तारित कराना सुनिश्चित करें।
राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), सहकारिता विभाग उ0प्र0, श्री जे0पी0एस0 राठौर ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी अधिकारी अपने तैनाती स्थल पर रहें, जनता के बीच में जाएं तथा उनसे अच्छा व्यवहार करें। उन्होंने कहा कि सरकार का उद्देश्य है कि भ्रष्टाचार एवं माफिया राज को खत्म कर जनता को भयमुक्त वातावरण प्रदान किया जाए। श्री राठौर ने कहा कि सड़कों के किनारे आगामी बारिश में लगाए जाने वाले पौधों के लिए जमीन का चिन्हीकरण कर लें। उन्होंने कहा कि पूर्व में जो पौधे लगाए गए हैं, उनका सत्यापन कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि पौधों की देखरेख एवं अनुरक्षण के लिए कर्मचारियों की जिम्मेदारी तय करें।
समीक्षा बैठक में टैबलेट/स्मार्टफोन वितरण, विद्युत आपूर्ति, पुष्टाहार वितरण, भूमि संरक्षण, जल निगम, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, मिशन शक्ति, महिला संबंधित अपराध, पास्को एक्ट, अनुसूचित जाति/जनजाति में पंजीकृत अभियोग, गैंगस्टर एक्ट, कुर्क का आदेश तथा विकास कार्यों से संबंधित अन्य योजनाओं की व्यापक समीक्षा की गई।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment