.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: कृषि कानून वापसी पर कांग्रेस ने मनाया किसान विजय दिवस 



शहीद किसानों की आत्मा की शांति के लिये कैंडिल मार्च निकाला

बीजेपी अब समझ चुकी है कि उसकी जमीन खिसक चुकी है- प्रवीण सिंह, जिलाध्यक्ष

आजमगढ़: जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह की अध्यक्षता में तीनों काले कृषि कानूनों की सरकार द्वारा वापसी की घोषणा को किसान विजय दिवस के रूप में मनाया और इसे किसानों के आंदोलन की बड़ी जीत बताया। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय महासचिव प्रभारी उत्तर प्रदेश प्रियंका गांधी के नारे 'मैं लड़की हूं लड़ सकती हूं' से प्रभावित होकर कांग्रेस नेत्री किरण कुमारी के नेतृत्व में आयी रीना देवी, गीता देवी, रिंकी, बीना देवी, विद्या देवी सहित कई महिलाओं को कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह ने कांग्रेस का झंडा प्रदान कर उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण करायी। कार्यक्रम के अंत में किसान आंदोलन के दौरान अब तक लगभग सात सौ से ऊपर शहीद किसानों की आत्मा की शांति के लिये कांग्रेसियों ने कैंडिल मार्च किया। इस मौके पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह ने तीनों काले कृषि कानूनों की वापसी पर अन्नदाताओ को बधाई दी और इसे किसानों के संघर्षों की बहुत बड़ी जीत बताया। कहा, किसान आंदोलन के लगभग एक वर्ष पूरे होने को है लेकिन सरकार के हठधर्मी रवैये के कारण किसानो का बहुत नुकसान हुआ और लगभग सात सौ से ऊपर किसानों ने अपनी शहादत दी। सरकार ने किसानों की शहादत के सवाल पर कुछ नहीं बोला सरकार को किसानो की शहादत पर जवाब देना ही होगा। किसान अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रभारी उत्तर प्रदेश प्रियंका गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी हमेशा किसानो के इस लड़ाई में किसानों के संघर्षो में उनके साथ खड़ी रही। भविष्य में भी किसानो के हित के सभी मुद्दों को लेकर सड़क से संसद तक संघर्ष के लिए कांग्रेस पार्टी प्रतिबद्ध है। तमाम चुनावी सर्वे मे दिख रही करारी हार और उपचुनावो में मिली करारी हार के कारण बीजेपी अब समझ चुकी है कि उसकी जमीन खिसक चुकी है। जिसके कारण उसे मजबूरन तीनों काले कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा करनी पड़ी लेकिन इस घोषणा पर पूरी तरह विश्वास नहीं किया जा सकता पहले एमएसस पी गारंटी पर कानून बने और तीनों काले कृषि कानून संसद से वापस होने चाहिये। क्योंकि सरकार आज तक अपने किये किसी वादों पर कभी भी खरी नहीं उतरी। इसीलिये सरकार के इस घोषणा पर किसान पूरी तरह आश्वस्त नहीं है। बीजेपी को जनता अब पूरी तरह नकार चुकी है। इस मौके पर बेलाल अहमद, तेज बहादुर यादव, आशुतोष रजत, मोहम्मद आमिर, मुन्नू मौर्य, देव मुनि राजभर, हरेंद्र यादव, राजदेव कनौजिया, शंभू शास्त्री, वीरेंद्र चौहान, प्रमोद यादव, संजू यादव आदि लोग उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment