.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: महावत को पैसा देने पर भड़का हाथी, बाजार में मचाया तांडव 



फूलपुर क्षेत्र के जगदीशपुर पुल के पास दशहरा मेला स्थल पर पंहुचा हाथी बिदक गया

मैजिक, टेम्पो सहित दो बाइक को क्षतिग्रस्त किया,बाजार में मची भगदड़

आजमगढ़: जिले केे फूलपुर क्षेत्र में विजय दशमी के दिन सुबह सुबह हाथी के साथ आयोजन की परंपरा का निर्वहन करने के दौरान हाथी भड़क गया। इसके बाद बाजार में हाथी का रौद्र

रूप देखकर सभी दहशत में आ गए। दरअसल एक जीप चालक ने हाथी को पैसा न देकर महावत को पैसा दे दिया और आगे बढ़ गया। इसकी वजह से भड़के हाथी ने वहां पर मौजूद मैजिक, टेम्पो सहित दो मोटर साइकिल को क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथी का रौद्र रूप देखकर भगदड़ मच गई। इस दौरान काफी देर तक अफरा-तफरी मची रही। विजयदशमी पर्व पर वर्षों से हाथी मंगाने की परंपरा रही है, हाथी की मौजूदगी रावण, कुम्भ करण आदि की सेना के साथ रहती थी। रावण कुम्भकर्ण जब युद्ध के लिए राक्षसी सेना के साथ निकलते थे तो हाथी आगे चलती थी। इस बार तैयारियों के तहत दो हाथी मंगाए गए थे। दशहरा कमेटी द्वारा एक हाथी महाराज गंज, दूसरी आजमगढ़ की थी। दोनों ही हाथी सुबह आठ बजे ही पहुंच गए। जगदीश पुर गांव स्थित बाबा भगवती दास कुटी जाने के दौरान कुंवर नदी के पास जगदीशपुर गांव के करीब ही सवारी जीप के चालक ने दस रुपये की नोट निकाल हाथी को ना पकड़ा कर महावत को दे दिया और आगे बढ़ गया। इतने में हाथी आक्रोशित हो गया तो सड़क किनारे खड़ी मैजिक को खींच कर तहस नहस कर दिया। टेम्पो को पलट दिया और पैर से कुचल दिया। इस दौरान दो मोटर साइकिल को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बाजार में आक्रोशित हाथी को देखकर भगदड़ मच गई। महावत हाथी को वश में करने का प्रयास करने लगा तो लगभग बीस मिनट बाद हाथी काबू में आया। फिर महावत हाथी लेकर आगे बढ़ गया। वर्तमान समय में हाथी बाबा भगवती दास कुटी जगदीशपुर में पहुंच चुका है। दशहरा कमेटी ने हाथी को मेला में ना घुमाने का निर्णय लिया है। साथ ही वन विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया। हाथी के आक्रोश से आधा घण्टा तक आवागमन बंद रहा। इस दौरान बड़े वाहन खड़े हो गए। बाद में हाथी के आगे बढ़ने पर गाड़ियों का आवागमन शुरू हो सका।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment