.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: असलहा लहराते बीजेपी अध्यक्ष का फोटो वायरल, विपक्षी बोले यह असली चरित्र


बीजेपी अध्यक्ष ने दी सफाई,कहा मैं बेदाग हूँ, दशहरे पर शस्त्र पूजन का फोटो एडिट कर किया गया वायरल

आजमगढ़. यूपी की सत्ता में आने के बाद ही मंत्री व विधायकों द्वारा असलहा प्रदर्शन और वाहन में लालबत्ती लगाकर हूटर बजाने की परम्परा तो बंद कर दिया गया था। इसके लिए सरकार की सराहना भी हुई थी लेकिन अब बीजेपी जिलाध्यक्ष ध्रुव कुमार सिंह का दोनों हाथों में पिस्टल लहराते हुए फोटो वायरल हुआ है। जिसे विपक्ष सोशल मीडिया पर वायरल कर सरकार और उनके नेताओं के चाल और चरित्र पर सवाल उठा रहा है। वहीं बीजेपी अध्यक्ष फोटो को शस्त्र पूजन की बता उसे एडिट कर वायरल करने की बात कह रहे हैं। उन्होंने विपक्ष पर घटिया राजनीति का आरोप लगाया है। बता दें कि बीजेपी आजमगढ़ अध्यक्ष ध्रुव कुमार सिंह का तीन दिन पूर्व एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। जिसमें वे दोनों हाथ में पिस्टल लिए है। फोटों में ध्रुव कुमार सिंह फायर करने की मुद्रा में खड़े हैं। यह फोटो सामने आने के बाद से ही सपा, कांग्रेस के लोग इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं और कानून व्यवस्था व बीजेपी नेताओं की दबंगई पर चर्चा कर रहे है। वहीं अब बीजेपी जिलाध्यक्ष पर पहले से दर्ज आपराधिक मुकदमों पर भी टिप्पणी हो रही है। इस मामले को लेकर बीजेपी अध्यक्ष ध्रुव कुमार सिंह भी सामने आ गए हैं। उनका दावा है कि उनकी छवि बेदाग है और जो भी उनके ऊपर मुकदमा दर्ज हुए थे वह राजनीतिक द्वेष में सपा व बसपा की सरकारों में दर्ज कराए गए थे। वह सारे मुकदमें खत्म हो चुके हैं। इसके अलावा जो दोनों हाथ में असलहे हैं वह विजयादशमी के दिन शस्त्र पूजन का है। क्षत्रिय लोग इस विशेष पर्व पर शस्त्र पूजन करते हैं। उन्होंने कहा कि जिसने भी फोटो वायरल किया है वह विद्वेष की भावना से किया है। वहीं इस संबंध में कथित रूप से जारी थानाध्यक्ष द्वारा जारी अपराधिक मुकदमे के पत्र को भी गलत ठहराया है। किसी भी कानूनी कार्रवाई से उन्होंने स्पष्ट इनकार किया है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता आशुतोष द्विवेदी ने कहा कि बीजेपी के सत्ता के दौर में उसका चाल चरित्र और चेहरा सामने आ रहा है। जिलाध्यक्ष का जो फोटो सामने आया है यह पूजन से ज्यादा उनके पुराने आपराधिक इतिहास व छवि पर ज्यादा मुहर लगाता है। इस मामले में कार्रवाई होनी चाहिए। हालांकि इस मामले में जिले के प्रशासनिक अधिकारी बयान देने से बच रहे हैं। वहीं थानाध्यक्ष मेहनगर का कहना है कि इस तरह का कोई मामला उनके संज्ञान में नहीं है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment