.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: जालसाजी से एसटी प्रमाण पत्र लगा 03 भाई कर रहे थे सरकारी नौकरी 


जाति प्रमाण पत्र सत्यापन समिति ने दिया प्रमाण पत्र निरस्त किए जाने का आदेश

आजमगढ़: अभिलेखों में कूटरचना व जालसाजी कर अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र बनवाकर सरकार नौकरी करने वाले तीनों भाइयों के जाति प्रमाण पत्र निरस्त किए जाने का आदेश जाति प्रमाण पत्र सत्यापन समिति ने दिया है। यह कार्रवाई मेंहनगर तहसील के टंडवा खास गांव निवासी बालेश्वर सिंह की शिकायत पर हुई है। मेंहनगर तहसील के टंडवा खास गांव निवासी रामकुमार गोंड, श्याम गोंड व लक्षिमन गोंड जनवरी 2007,19 दिसंबर 2006 को तहसील मेंहनगर से अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र जारी किया गया था। जिसके आधार पर तीनों भाई अनुसचित जनजाति के कोटे से सरकारी नौकरी कर रहे हैं। बालेश्वर सिंह ने मामले की शिकायत अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग आयुक्त न्यायिक व जिलाधिकारी से की। जिसमें उन्होंने राम कुमार गोंड, श्याम गोंड, लक्षिमन गोंड को पिछड़ी जाति (कहार) होने के बाद भी अभिलेखों में कूटरचना कर गलत तरीके से अनुसचित जनजाति का प्रमाण पत्र बनवाकर सरकारी सेवा का लाभ लेने का आरोप लगाया। प्रकरण जब जनपदस्तरीय जाति प्रमाण पत्र सत्यापन समिति के पास पहुंचा तो मामला सही पाया गया। तहसीलदार मेंहनगर ने लेखपाल, राजस्व निरीक्षक की जांच आख्या के बाद समिति को बताया कि तीनाें भाई अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में नहीं आते, यह लोग कहार है, जो पिछड़ी जाति के अंतर्गत आते है। इनके खानदान के अन्य लोगों को कहार जाति (पिछ़ड़ी जाति) का जाति प्रमाण पत्र जारी किया गया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment