.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: मुठभेड़ में पकड़े गए 05 पशु तस्कर,04 अन्य फरार हुए


शहर कोतवाली पुलिस ने असलहे, नकदी, सेलफोन, ट्रक एवं इनोवा वाहन बरामद किया

आजमगढ़: शहर कोतवाली पुलिस को गुरुवार की भोर बड़ी कामयाबी हाथ लगी। पुलिस ने गोरखपुर- आजमगढ़ मार्ग पर स्थित उकरौड़ा गांव की पुलिया के पास मुठभेड़ के दौरान पांच पशु तस्करों को गिरफ्तार किया। इस दौरान उनके चार अन्य साथी पुलिस की घेराबंदी तोड़ भागने में सफल रहे। मौके से पशु तस्करी में प्रयुक्त ट्रक, इनोवा कार, नकदी व असलहे बरामद किए गए हैं। पुलिस को जरिए मुखबिर सूचना मिली कि ग्रामीण इलाकों में छुट्टा घूम रहे गोवंशों को ट्रकों पर लादकर उन्हें बंगाल ले जाने वाले पशु तस्कर उकरौड़ा गांव की पुलिया के पास मौजूद हैं। पशु तस्करों को दबोचने के लिए बनाई गई पुलिस टीम में बलरामपुर चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक कमलनयन दुबे एवं पहाड़पुर चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक विनय कुमार दुबे सहित अन्य पुलिसकर्मियों को शामिल किया गया। पुलिस टीम बताए गए स्थान पर पशु तस्करों को दबोचने के लिए रवाना की गई। मौके पर पहुंची पुलिस टीम को देख वहां मौजूद पशु तस्कर फायरिंग करते हुए भागने लगे। इस दौरान पुलिस ने पांच लोगों को काबू में कर लिया जबकि चार अन्य मौके से भागने में कामयाब रहे। पुलिस ने पकड़े गए पशु तस्करों के कब्जे से दो अवैध असलहे व कारतूस 52200 रुपये, ट्रक तथा इनोवा कार बरामद किया। पूछताछ के दौरान पकड़े गए पशु तस्करों ने मुठभेड़ स्थल से फरार हुए साथियों के बारे में पुलिस को बताया, जिनकी तलाश में पुलिस जुट गई है। गिरफ्तार आरोपियों में इरफान पुत्र जमील, सलाहुद्दीन पुत्र अजमल व अनीश पुत्र अकरम ग्राम पीठापुर थाना अहरौला, दिलशाद पुत्र मोहम्मद शमशाद ग्राम खुरासों चकसा काफी थाना फूलपुर तथा शमीम पुत्र हमीदुल्लाह ग्राम करमैनी थाना बिलरियागंज के निवासी बताए गए हैं। इस मामले में पुलिस को अभी अहिरौला क्षेत्र के पीठापुर ग्राम निवासी सज्जाद व यूनुस पुत्रगण अजीज एवं शाहबाज पुत्र सज्जाद तथा जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के अशरफपुर निवासी वसीम पुत्र सलीम की तलाश है। इस मामले में सभी आरोपियों के खिलाफ हत्या प्रयास व अन्य सुसंगत धाराओं के तहत विधिक कार्रवाई की गई है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment