.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: 54 हजार से अधिक परिवारों को मिलेगी एक-एक हजार रुपये की मदद


10,555 स्ट्रीट वेंडर को मिलेगा भरण-पोषण का लाभ, अलग से खाद्यान्न

ग्रामीण क्षेत्र के 21 हजार दिहाड़ी मजदूर व छोटे कामगारों को मिलेगा फायदा 

आजमगढ़: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए घोषित बंदी में गरीबों को दो वक्त की रोटी मुहाल हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसे संज्ञान में लेते हुए आर्थिक के साथ ही खाद्यान्न से मदद देने की घोषणा की है। इसके तहत प्रत्येक पंजीकृत वेंडर्स, मजदूर, नाविक, रिक्शा व ट्राली चालक आदि को एक हजार रुपये की आर्थिक धनराशि उनके खाते में भेजी जाएगी। शासन की इस पहल पर जिले में लगभग 54 हजार गरीबों को लाभ मिलेगा।
शहरी क्षेत्र में दैनिक रूप से ठेला,खोमचा, रेहड़ी लगान वाले दुकानदारों, रिक्शा चालक, पल्लेदार, हलवाई के अलावा दिहाड़ी मजदूरों को भी लाभ मिलेगा। शहरी क्षेत्र में कुल 10,555 स्ट्रीट वेंडरों का पंजीकरण है। इसके अधिकतर मोबाइल ठेला चलते हैं, जो अधिकतर गलियों व विभिन्न चौराहों पर ठेला लगाकर अपनी जीविका चलाते हैं। डूडा के परियोजना अधिकारी अरविद कुमार पांडेय ने बताया कि लगभग सात हजार रेहड़ी, ठेला कारोबारियों ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का लाभ लेते हुए 10 हजार रुपये का ऋण भी लिया है। सरकार की घोषणा के मुताबिक इन लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा।
जिले में एक हजार रुपये की सहायता पाने वाले लाभार्थियों में 10,555 व 21,861नगरीय क्षेत्र में चिन्हित हैं वहीं 21,000 श्रम विभाग में पंजीकृत हैं। जिले में 200 नाविक भी पंजीकृत हैं । डीएम राजेश कुमार ने बताया कि शासन की मंशानुसार योजना का लाभ दिलाने के लिए ब्लाक व तहसीलवार लाभार्थियों का आंकड़ा एकत्र किया जा रहा है, जिससे कोई भी पात्र व्यक्ति योजना के लाभ से वंचित न हो सके।
जिलाधिकारी ने कहा कि पात्र व्यक्तियों का चिन्हीकरण, डाटा संकलन एवं वेबसाइट पर फीडिंग हेतु जिला स्तरीय समिति का गठन किया गया है। उक्त जिला स्तरीय समिति में जिला पंचायतराज अधिकारी भी सदस्य रहेंगे तथा जिलाधिकारी अपने स्तर से किसी अन्य अधिकारी को भी आवश्यकतानुसार समिति में विशेष आमंत्री सदस्य के रूप में सम्मिलित कर सकते हैं।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment