.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: मण्डलायुक्त का निरीक्षण, 03 कार्यालयों में कई मिले अनुपस्थित, वेतन काटा


राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय के स्टाक में मिली भिन्नता

आजमगढ़: -- मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने शासकीय कार्यालयों के औचक निरीक्षण का सिलसिला जारी रखते हुए मंगलवार को तीन कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान कुल 13 अधिकारी व कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। इसके अलावा राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय के रजिस्टर में दर्ज एवं मौके पर उपलब्ध दवाओं के स्टाक में भी भिन्नता पाई गयी। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने निरीक्षण में अनुपस्थित पाये गये अधिकारियों एवं कर्मचारियों का अनुपस्थित तिथि का वेतन काटने का निर्देश देते हुए उनसे स्पष्टीकरण भी तलब किया है। इसके अलावा आयुर्वेदिक चिकित्सालय की स्टाक पंजिका और उपलब्ध दवाओं में मिली भिन्नता के सम्बन्ध में सम्बन्धित कर्मचारी को भी स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।
मण्डलायुक्त ने यह भी निर्देश दिया कि जिन कार्यालय सहायक (बड़े बाबू) द्वारा उपस्थिति पंजिका देखी जा रही है, वह सुनिश्चित करें कि जो कर्मचारी समय से उपस्थित नहीं होते हैं तो उन्हें पंजिका में अवश्य अनुपस्थित कर दें। उन्होंने आगाह किया कि यदि निरीक्षण में कर्मचारी के अनुपस्थित रहने के बावजूद उपस्थिति पंजिका में उन्हें अनुपस्थित नहीं किया गया है तो सम्बन्धित कार्यालय सहायक का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए उनके विरुद्ध भी कार्यवाही की जायेगी।
मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त द्वारा सम्भागीय खाद्य नियन्त्रक कार्यालय के निरीक्षण के दौरान पाया कि विपणन निरीक्षण प्रीति रावत को लम्बे समय से अनुपस्थित चल रही हैं, जबकि चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी राम नारायन निरीक्षण तिथि को अनुपस्थित थे, सम्भागीय लेखाधिकारी (खाद्य) सेक्शन के निरीक्षण में संभागीय लेखाधिकारी (खाद्य) राधेश्याम गुप्ता, सहायक संभागीय लेखाधिकारी सुरेन्द्रनाथ चैबे, सीनियर आडिटर रमेश कुमार गौतम, एकाउण्टेन्ट मनोज कुमार श्रीवास्तव, हेमराज सिंह एवं दिनेश कुमार वर्मा अनुपस्थित पाये गये। इसी प्रकार अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कार्यालय के निरीक्षण में नियमित दो कर्मचारी चालक शहज़ाद अहमद व चपरासी अरविन्द कुमार यादव तथा एक संविदा कर्मचारी संजय यादव अनपुस्थित थे। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने इसी क्रम में नगर स्थित 25 शैय्यायुक्त राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय में भी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की समय से उपस्थिति एवं दवाओं की उपलब्धता का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय में वार्ड आया रूबी तथा एएनएम वन्दना तिवारी अनुपस्थित पाई गयीं, जबकि डा. हसील अहमद का स्थानान्तरण हो जाने के फलस्वरूप चिकित्सक का पद रिक्त पाया गया। मण्डलायुक्त ने निरीक्षण के समय चिकित्सालय में दवाओं की उपलबधता के सम्बन्ध में कुछ दवाओं के स्टाक का पंजिका से मिलान किया तो पाया कि जिंक आक्साइड वितरण शून्य है, स्टोर में शर्ब-ए-सदर 1125 शीशी मिली जबकि स्टाक रजिस्टर में 1100 शीशी अंकित है। इसी प्रकार स्टाक में तिर्याक-ए-नज़ला के 3250 डब्बे मिले जबकि स्टार रजिस्टर में 3300 दिखाया गया है। इस पर मण्डलायुक्त ने सम्बन्धित कर्मचारी से स्थिति स्पष्ट कराने का निर्देश दिया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment