.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: कमिश्नर के निरीक्षण में 07 कर्मी अनुपस्थित मिले,01 दिन का वेतन रोका


कार्यालयों में कोई भी अधिकारी, कर्मचारी या आगंतुक बिना मास्क के नहीं मिलने चाहिए- विजय विश्वास पन्त, मंडलायुक्त

आज़मगढ़ 23 मार्च - मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने मण्डलीय एवं जनपदीय कार्यालयों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों की समय से उपस्थिति सुनिश्चित कराये जाने के उद्देशय से मंगलवार को जनपद के दो कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान कुल 7 कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। उन्होंने अनुपस्थित कर्मचारियों का एक दिन का वेतन रोके जाने हेतु सम्बन्धित आहरण वितरण अधिकारी को निर्देशित किया। मण्डलायुक्त श्री पन्त के निरीक्षण के दौरान दोनों कार्यालयों में कतिपय कर्मचारी बिना मास्क लगाये कार्य करते मिले। उन्होंने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए अधिकारियों, कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से मास्का का प्रयोग करने का निर्देश देते हुए आगाह किया कि भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए।
मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने अपने निरीक्षण के क्रम में पहले जिला पंचायत कार्यालय का निरीक्षण किया, जहाॅं कुल कार्यरत 25 कर्मचारियों में से 5 कर्मचारी राजेश मिश्र प्रथम श्रेणी लिपिक, प्रेमनाथ यादव कम्प्यूटर आपरेटर, लालजीत यादव चतुर्थ श्रेणी, बिन्दु यादव प्रथम श्रेणी लिपिक एवं बेचूराम चतुर्थ श्रेणी अनुपस्थित पाये गये। इनमें से एक कर्मचारी बिन्दु यादव को 3 दिनांे से लगातार अनुपस्थित होना पाया गया। इसी प्रकार वित्त एवं लेखाधिकारी, बेसिक शिक्षा कार्यालय के निरीक्षण में पाया गया कि कार्यालय में कुल 11 कर्मचारी कार्यरत हैं, जिसमें से दो कर्मचारी अशोक कुमार वरिष्ठ सहायक मिश्र एवं विकास वर्मा वरिष्ठ सहायक अनुपस्थित पाये गये। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने अनुपस्थित पाये गये कर्मचारियों का निरीक्षण तिथि का वेतन रोकने तथा इन कर्मचारियों का स्पष्टीकरण प्राप्त कर स्पष्ट संस्तुति के साथ तीन दिनों के अन्दर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराने हेतु सम्बन्धित कार्यालयाध्यक्षों को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि इन कर्मचारियों के रोके गये वेतन को आहरित करने की तभी अनुमति दी जायेगी जब स्पष्टीकरण सन्तोषजनक पाया जायेगा। जिला पंचायत कार्यालय में उपस्थिति पंजिका के अवलोकन से यह भी स्पष्ट हुआ कि शिवाकान्त उपाध्याय, अनुभागिक मुख्य लिपिक टैक्स द्वारा माह फरवरी की 29 तारीख मंे अपनी उपस्थिति दर्ज की गयी थी, जबकि उक्त माह 28 दिनों का था। इस सम्बन्ध में पूछताछ करने पर सम्बन्धित कर्मचारी द्वारा सन्तोषजन उत्तर नहीं दिया गया, जिस पर मण्डलायुक्त ने उक्त कर्मचारी से भी स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।
मण्डलायुक्त श्री पन्त ने कहा कि जनपदीय एवं मण्डलीय कार्यालयों के आकस्मिक निरीक्षण का क्रम निरन्तर जारी रहेगा। उन्होंने सभी कार्यालयाध्यक्षों को स्वयं तथा अधीनस्थ अधिकारियों, कर्मचारियों की समय से कार्यालय में उपस्थिति सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि किसी भी कार्यालय में कोई अधिकारी, कर्मचारी अथवा बाहर से आने वाले लोग बिना मास्क के नहीं मिलने चाहिए। इसके साथ ही सेनेटाइज़र आदि की व्यवस्था भी सुनिश्चित कराई जाय।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment