.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: यूके व तामिलनाडु से जुड़ा कैफी आजमी का गांव मेजवां


कोयमबटूर के पांच विद्यार्थियों ने आनलाइन इंटर्नशिप के माध्यम से दी कैफी आजमी ग्लोबल इंडिया इंटर्नशिप प्रोग्राम में भाग लिया 

‘रोजगार ढाबा’ से चिकनकारी से जुड़ीं हस्तशिल्पियों व अप्रवासियों को रोजगार देने की कवायद

सरकारी योजनाओं से जुड़ी जानकारी प्रदान करने को आनलाइन प्लेटफार्म बनाने में की मदद

आजमगढ़: यूके और तमिलनाडु कालेज के विद्यार्थियों ने कोविड-19 महामारी में मशहूर शायर कैफी आजमी के पैतृक गांव फूलपुर के मेजवां की महिला हस्तशिल्पियों (चिकनकारी से जुड़ीं महिलाएं), आप्रवासी लोगों को रोजगार और सरकारी योजनाओं से जुड़ी जानकारी प्रदान करने के लिए आनलाइन प्लेटफार्म बनाने में मदद की है। यूनिवर्सिटी आफ साउथ हैंपटन, यूनाइटेड किंगडम एवं डा. जीआर दामोदरन (जीआरडी) कालेज आफ साइंस, कोयमबटूर के पांच विद्यार्थियों ने आनलाइन इंटर्नशिप के माध्यम से दी कैफी आजमी ग्लोबल इंडिया इंटर्नशिप प्रोग्राम में भाग लिया था। जिसकी अवधि छह सप्ताह की थी। इसका उद्देश्य रोजगार ढाबा कार्यक्रम के तहत गांवों में आप्रवासी कामगारों के दस्तावेजीकरण के लिए एक आनलाइन डेटाबेस प्रणाली विकसित करना और ग्रामीण महिला उद्यमियों के लिए मेजवां वेलफेयर सोसायटी के कैफी आजमी सिलाई-कढ़ाई केंद्र के सहयोग से अपने उत्पादों को आनलाइन बेचने के लिए एक प्रणाली विकसित करना था। उनकी छह सप्ताह की इंटर्नशिप पिछले सप्ताह समाप्त हुई। रोजगार ढाबा कार्यक्रम का नेतृत्व आशुतोष त्रिपाठी डिप्टी मेनेजर मेजवां वेलफेयर सोसायटी एवं महिला उद्यमी कार्यक्रम का नेतृत्व प्रतीक्षा कोटियन एडमिन लीड मेजवां वेलफेयर सोसायटी ने किया।
आनलाइन इनकी रही मौजूदगी 
मेजवां वेलफेयर सोसायटी जमीनी स्तर पर काम करने वाली संस्था है। जो की मुख्य रूप से महिला सशक्तीकरण एवं शिक्षा के लिए कार्य करती है। यह पहला मौका था जब संस्था ने वर्चुअल माध्यम से इंटर्नशिप करवाया। बीत 30 दिसंबर को वर्चुअल माध्यम से दोनों आनलाइन वेबसाइट को देश-विदेश से उपस्थित तमाम गणमान्य लोगों के सामने दिखाया गया। मुख्य रूप से साबू पद्मदास एसोसिएट डीन साउथ हैंपटन विश्वविद्यालय, जीआरडी के निदेशक केके रामचंद्रन, विनोद कुमार पांडेय सीइओ मिजवां वेलफेयर सोसायटी ,सिडनी से मिस कायली व ट्यूनीशिया से मिस लौरा आदि उपस्थित रहीं।
मेजवां वेलफेयर सोसायटी का काम पसंद आया: रामचंद्रन
‘‘जीआरडी के निदेशक केके रामचंद्रन ने कहा कि हम जमीनी स्तर पर समाज की समस्या को हल करना चाहते थे और हमें मेजवां वेलफेयर सोसायटी का काम पसंद आया। इसलिए हमने सहयोग किया और एक वर्चुअल इंटर्नशिप बनाई।
सर्वश्रेष्ठ अभ्यास को दूसरों के साथ साझा करेंगे:पद्मदास
‘‘साउथ हैंपटन विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय मामलों के एसोसिएट डीन साबू पद्मदास ने कहा कि वे अपने सर्वश्रेष्ठ अभ्यास को दूसरों के साथ साझा करेंगे, जिससे वे समुदायों का सहयोग और उनकी मदद कर सकें।
वर्चुअल इंटर्नशिप प्रोग्राम एक नया अनुभव: सीइओ
‘‘मेजवां वेलफेयर सोसायटी के सीइओ विनोद कुमार पाण्डेय ने कहा कि इस तरह का वर्चुअल इंटर्नशिप प्रोग्राम अपने आप में एक नया अनुभव रहा। कोविड-19 के इस चुनौतीपूर्ण समय में वर्चुअल इंटर्नशिप प्रोग्राम ने उन लोगों को मदद का प्रयास किया, जिन्हें सबसे ज्यादा जरुरत है (मजदूर और महिला वर्ग)। इस इंटर्नशिप ने असमानता के गैप को कम करने का प्रयास किया है। सारे इंटर्नस को बहुत बधाई

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment