.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: मंगल गीतों की प्रस्तुति के साथ हुनर रंग महोत्सव का हुआ भव्य उद्घाटन



पहले दिन 'अज़ब मदारी गजब तमाशा', 'राजा विक्रमादित्य' और 'हवालात' नाटकों का हुआ मंचन

आज़मगढ़: हुनर संस्थान आजमगढ़ द्वारा स्थानीय प्रतिभा निकेतन स्कूल आजमगढ़ के प्रांगण में आयोजित तीन दिवसीय हुनर रंग महोत्सव का भव्य उद्धघाटन एसपी सिटी पंकज पांडेय , डॉ पीयूष सिंह,रमाकान्त वर्मा, ने माँ सरस्वती की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित व माल्यर्पण कर किया। आये हुए सभी अथितियों का स्वागत स्वागताध्यक्ष अभिषेक जायसवाल दीनू , संस्थान अध्यक्ष मंनोज यादव , गौरव मौर्य ने अंगवस्त्रम , प्रतीक चिन्ह से किया। भगवान गणेश की वंदना समूह नृत्य " हे गजानन हे गजवंदन " से शुरू हुआ। संस्थान के नवोदित कलाकारों के समूह नृत्य को तैयार कराया था काजल सिंह ने । आये अथितियों के स्वागत में स्वागत गीत 'स्वर से स्वर मिलाकर करते है मंगल गान' गीत से सनी दुलरुवा व साथियो ने किया। फिर हुनर संस्था आजमगढ़ के कलाकारों ने सुनील दत्त विश्वकर्मा के निर्देशन में अख्तर अली द्वारा लिखित नाटक "अज़ब मदारी गजब तमाशा" का मंचन किया गया। नाटक आज के वर्तमान व्यवस्था पे आधारित है । लेखक ने इस नाटक के माध्यम से वर्तमान राजनैतिक परिस्थितियों पे गहरी चोट की । नाटक का मुख्य पात्र राजा के उलजलूल फैसले जनता को सोचने पर विवश करते है। प्रमुख पात्रो में राजा - करन सोनकर, मंत्री -सावन प्रजापति, राजगुरु, -गौरव मौर्य, युवक1- विनय राव , युवक 2 -कमलेश सोनकर , युवती1 - शिवांगी गोंड, युवती2- खुशी खरवार, प्रहरी - शाबिर, सुमित, सत्यम, गुप्तचर- आकाश गोंड, संगीत सनी दुलरुवा , महमूद, मेकअप - अनुराधा राय, इंद्रजीत निषाद का रहा। दूसरी प्रस्तुति विश्वरूपम कला संगम वाराणसी द्वारा रविकांत मिश्र के निर्देशन में ऐतिहासिक नाटक " राजा विक्रमादित्य" का भावपूर्ण मंचन किया गया । नाटक का लेखन रामकुमार वर्मा का है। नाटक में राजा विक्रमादित्य- आदर्श कुमार श्रीवास्तव, पुष्पिका - मुश्कान गुप्ता,वादक-हरिओम तिवारी, द्वारपाल-रवि पटेल,संगीत - राजेश सिंह, का था। तीसरी प्रस्तुति डेट जमशेदपुर द्वारा अनुज कुमार श्रीवास्तव के निर्देशन में सर्वप्रथम सरवेश्वर दयाल सक्सेना द्वारा लिखित नाटक " हवालात" का मंचन किया गया । नाटक में कलाकारों ने मानवीय मूल्यों के हो रहे हनन। व्यक्ति के अंदर छिपे हुए डर को उजागर करने का प्रयास किया । नाटक में अनुज कुमार श्रीवास्तव ने हवलदार, कृष्णा करमाकर, मयंक लोहार, अविनाश ठाकुर, क्रमशः चोर, अमित कुमार - शराबी , संगीत व प्रकाश शिवलाल कुमार का था। इस अवसर पर आल इंडिया थिएटर कौंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक मानव आरा - बिहार , , सुग्रीव मौर्य , सुजीत अस्थाना , वशिष्ठ सिन्हा, सुरेन्द्र सागर दिल्ली उपस्थित थे । कार्यक्रम को सफल बनाने में मनीष रतन अग्रवाल,श्रीमती विजयलक्ष्मी मिश्रा, अजेन्द्र, शशि सोनकर,, डॉ शशिभूषण शर्मा, कमलेश सोनकर, अमरजीत विश्वकर्मा, रवि चौरसिया लगे हुए थे। कार्यक्रम का संचालन संस्थान सचिव सुनील दत्त विश्वकर्मा ने किया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment