.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: शादी से इनकार करने पर प्रेमी के घर पंहुचीं युवती ने हंगामा किया


युवक पर सरकारी नौकरी मिलने के बाद शादी से मुकरने का आरोप

पुलिस ने दहेज उत्पीड़न और दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया

आजमगढ़ : रानी की सराय क्षेत्र के एक गांव में रविवार की सुबह उस समय हंगामा मच गया, जब शादी से इन्कार पर एक युवती ने आपा खो दिया। वह पर्स में सल्फास व चाकू रखकर प्रेमी को सबक सिखाने उसके घर जा धमकी। पुलिस पहुंची तो युवती के पर्स में सल्फास व चाकू देख परेशान हो उठी। युवती को ऐहतियातन थाने लाने के बाद आरोपित युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई में जुट गई। पक्षकारों में समझौते के मुताबिक 17 अक्टूबर को सात फेरे होने थे। निजामाबाद क्षेत्र की एक युवती रानी की सराय सराय स्थित एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ाती थी। उसी स्कूल में रानी की सराय क्षेत्र का एक युवक भी पढ़ाता था। स्वजातीय होने से दोनों एक दूसरे के करीब आ गए। युवती का आरोप है कि युवक ने शादी का झांसा देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाया। युवक को सरकारी नौकरी मिली तो उसने शादी से इन्कार कर दिया। दो माह पूर्व भी युवक के मुंह फेरने पर युवती ने एसपी के यहां फरियाद लगाई थी। एसपी के आदेश पर रानी की सराय पुलिस ने जब दबाव बनाया तो युवक पक्ष के लोग शादी के लिए तैयार हो गए थे। युवती के स्वजन शादी की तैयारी में जुट गए, निमंत्रण कार्ड नाते रिश्तेदारों में बांट दिए थे। इसी बीच युवक ने शादी से इन्कार करने पर फिर से मामले ने तूल पकड़ लिया। युवती का आरोप है कि युवक व उसके परिजन दहेज में रुपये की मांग कर रहे हैं। युवक के शादी से इन्कार पर मजबूरी में डीएम व एसपी के यहां पुन: गुहार लगाई। शनिवार को जब युवक शादी के लिए नहीं आया तो निराश होकर यहां आई हूं। मुझे देखकर आरोपित युवक घर से भाग निकला। उसके परिजन मुझे घर में घुसने नहीं दे रहे हैं। रानी की सराय थाने के दारोगा अरविद यादव व सुल्तान सिंह पहुंचे तो महिला आरक्षी ने युवती के पर्स की तलाशी ली तो उसमें चाकू व सल्फास देख सभी सन्न रह गए। इंस्पेक्टर रामायण सिंह ने कहा कि युवती की तहरीर पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कर दुष्कर्म की धारा बढ़ाकर विधिक कार्रवाई की जा रही है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment