.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मेडिकल कालेज पंहुचे कमिश्नर, उपलब्ध सेवाओं, कमियों की ली जानकारी


निरन्तर सक्रिय रहें, बेस्ट परफार्मेन्स देकर कर एल-3 हास्पीटल की सार्थकता सिद्ध करें: मण्डलायुक्त

मैनपावर की कमी को पूरा करने के लिए आईएमए से सम्पर्क करें -
विजय विश्वास पन्त

आज़मगढ़ 19 अगस्त -- मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने जनपद के चक्रपानपुर स्थित राजकीय मेडिकल कालेज एण्ड सुपर फेसिलिटी हास्पीटल, जो कोविड-19 के दृष्टिगत एल-3 हास्पीटल के रूप में कार्यरत है, का बुुधवार को निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने प्रस्तावित लेब स्थापना की प्रगति का भी जायजा लिया। उन्होंने मेडिकल कालेज के विभागाध्यक्षकों के साथ बैठक कर एल-3 हास्पीटल में उपलब्ध सेवाओं, कमियों, आवश्यकताओं आदि के साथ ही भर्ती मरीजों, मृत्यु आदि के बारे में विस्तृत जानकारी ली। बताया गया कि जुलाई माह में यहाॅं 206 मरीज एडमिट हुए थे, जबकि इस माह में कुल 212 मरीज यहाॅं आ चुके हैं, जिसमें से जुलाई में 6 मौतें एवं इस माह में अबतक 40 मौतें हो चुकी हैं। यह भी अवगत कराया गया कि वर्तमान में 80 पेशेंट भर्ती हैं, सभी क्रिटिकल है। इसमें 18 को आईसीयू में रखा गया हैं। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने निर्देश दिया कि जो भी मृत्यु हुई है उनकी आयु, उनकी गंभीर बीमारी से ग्रसित होने का स्पष्ट उल्लेख करते हुए उन सभी की पूरी प्रोफाइल तैयार कर उपलब्ध कराई जाये। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वर्तमान में नाजुक स्थिति को देखते हुए पूरे स्टाफ को निरन्तर सक्रिय रहने की हिदायत देते हुए कहा कि आने वाले मरीजों के उपचार में अपनी बेस्ट परफार्मेन्स देकर एल-3 हास्पीटल की सार्थकता सिद्ध करें। मण्डलायुक्त द्वारा हास्पीटल में स्टाफ की उपलब्धता की जानकारी करने के पर बताया गया कि एनेस्थेटिस्ट वर्तमान में 3 हैं 5 की और आवश्यकता है। इसी प्रकार इंडोक्राइनालोजिस्ट, गेस्ट्रोलाजिस्ट, कार्डियोलाजिस्ट, नेफ्रोलाजिस्ट आदि भी नहीं हैं। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों के अभाव में समुचित उपचार प्रभावित होना स्वभाविक है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि आवश्यकतानुसार एनेस्थेटिस को यहाॅं अटैच करें तथा अन्य सुविधायें जो उनके पास है उसे भी उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि स्पेशलिस्ट डाक्टर्स की सेवाओं के लिए मण्डल के तीनों जनपदों के आईएमए से वार्ता कर उनकी सेवायें ली जायें। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानाचार्य को निर्देशित किया कि एमबीबीएस के जो छात्र प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं, उनसे निरन्तर सम्पर्क बनाये रखें तथा उन्हें राजकीय मेडिकल कालेज में कार्य करने की महत्ता को बताते हुए उन्हें यहाॅं अपनी सेवायें देने हेतु प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि एल-3 हास्पीटल में हुई मृत्यु का पूरा विवरण होना चाहिए यह अत्यन्त महत्वपूर्ण बिन्दु है, इसलिए इसमें उदासीनता नहीं होनी चाएि। मण्डलायुक्त ने कोविड-19 के दृष्टिगत एल-3 हास्पीटल में प्रस्तावित टेस्टिंग लैब स्थापना की प्रगति जानने हेतु मेडिकल कालेज के एनाटामी विभाग में सैम्पल कलेक्शन, आरएनए एक्सट्रैक्शन, पीसीआर रूम आदि का भी मौके पर जाकर देखा तथा शीघ्र ही कार्य पूर्ण कर सक्रिय करने का निर्देश दिया। इसके अतिरिक्त उन्होंने अन्य आवश्यकताओं तथा उसके सापेक्ष डिमाण्ड आदि के बारे में भी विस्तार जानकारी ली तथा आवश्यक दिशा निर्देश दिया। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके मिश्र, प्रधनाचार्य डा. आरपी शर्मा, नोडल अधिकारी प्रथम डा. दीपक पाण्डेय, उप प्रधानाचार्य डा. राजेश, नोडल अधिकारी द्वितीय डा. नेयाज़ हसन सहित अन्य चिकित्सकगण उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment