.

.

.

.

,

,
.

मुबारकपुर : आखिर कैसे पंहुची पुलिस ब्लाइंड ट्रिपल मर्डर केस की तह तक !

मोबाइल टावर लोकेशन व डॉग स्क्वाड के नए हीरो फैंटम की मदद से पकड़ा गया हत्यारा 

आजमगढ़ : मुबारकपुर क्षेत्र के एक गांव निवासी 35 वर्षीय युवक बुनाई का कार्य कर किसी तरह से अपने बच्चों व पत्नी का पालन पोषण करता था। उसका मकान गांव के आबादी से दूर था। 24 नवंबर की रात को घर में घुस कर हमलावर ने उक्त युवक के साथ उसकी 32 वर्षीय पत्नी, चार माह के मासूम बेटा की सिर पर प्रहार कर हत्या कर दी थी। जबकि दस वर्षीय बेटी व पांच वर्षीय पुत्र के सिर पर किए गए हमले से वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे। दूसरे दिन घटना की जानकारी होने पर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो घर के अंदर तीन शवों को पड़ा देख सन्न रह गई। घायल दोनों बच्चों को पुलिस ने अस्पताल भर्ती कराया। मृत महिला निर्वस्त्र हालत में मिली थी। जिससे दुराचार का कयास लगाया जा रहा था। इस तिहरे हत्याकांड के संबंध में मुबारकपुर पुलिस ने मृत युवक के भाई की तहरीर पर गांव के ही नट बस्ती निवासी एक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। उक्त आरोपित युवक हिरासत में लिया गया और घायल बालिका ने भी उक्त आरोपित की पहचान की। इधर पूछताछ में लगातार उक्त आरोपित अपने को बेगुनाह बता रहा था। लगातार पूछताछ के बाद भी पुलिस अधिकारियों के मन में यह बात आ ही गई की पकड़ा गया व्यक्ति कहीं निर्दोष न हो। फिर एसपी प्रो0 त्रिवेणी सिंह के निर्देष पर कोई अहम सुराग न मिलने से पुलिस टीम ने पुन: घटना की नये सिरे से छानबीन शुरू कर दी। जिसमे यह पता लगा की घटना का पता चलने पर वहां जुटी हुई पुलिस टीम और भारी संख्या में आम लोगों के बीच एक व्यक्ति ऐसा था जो की डॉग स्क्वाड को आते देख वहां से भाग लिया था। अब पुलिस ने इस आदमी पर फोकस कर लिया था । मुबारकपुर क्षेत्र में एक सप्ताह पूर्व हुए तिहरे हत्याकांड पुलिस के लिए चुनौती बनी हुई थी। हिरासत में लिए गए मुख्य आरोपित पूछताछ में भी जब अपने को बेकसुर बताने लगा तो पुलिस ने नए सिरे से छानबीन शुरू की। छानबीन के दौरान उक्त क्षेत्र में लगे मोबाइल टावर डंप रिपोर्ट से एक ऐसे मोबाइल नंबर का पता चला जो घटना के समय उक्त स्थान पर तीन घंटे तक होना दर्शाया। उक्त मोबाइल नंबर का काल डिटेल के आधार पर पुलिस आरोपित तक पहुंची। इतना ही नहीं डॉग स्क्वायड टीम में शामिल श्वान फैंटम भी आरेापित तक पुलिस को पहुंचाने में अहम भूमिका निर्वहन किया। तीन दिनों तक आरोपित का पुलिस गोपनीय तरीके से पीछा कर उसके सारे गतिविधियों के बारे में पता किया। ठोस सबुत हाथ लगने के बाद पुलिस ने रविवार की रात को आरोपित नजीरुद्दीन उर्फ अउवा पउवा पुत्र अजीज अंसारी को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया।
 वहीँ मानसिक रोगी प्रतीत हो रहे हत्यारे द्वारा पूरा घटनाक्रम मोबाइल में रिकॉर्ड करने  की जानकारी आते ही एसपी के निर्देश पर गांव से कुछ दूर नदी में आरोपित द्वारा फेंके गए उसके मोबाइल की तलाश में गोताखोर लगाए गए हैं। सुबह से ही गोताखोर नदी के अंदर मोबाइल की तलाश कर रहे हैं, लेकिन शाम तक मोबाइल बरामद नहीं हो सका था। एसपी का कहना है कि मोबाइल मिलने से वह वीडियो पुलिस को मजबूत साक्ष्य के रूप में मिल सकता है जो वीडियो उसने घटना के दौरान बनाया था। इस वीडियो के आधार पर आरोपित को कठोरतम सजा हो सकती है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment