.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़ : वसूली में फंसा लेखपाल, कमिश्नर ने बैठाई जांच

लेखपाल ने वरासत एवं  कृषि बीमा कराने का झूठा वादा कर एक विधवा से साढ़े छह हजार रुपये वसूल लिए

आजमगढ़ : एक लेखपाल ने कृषि बीमा एवं वरासत कराने का वाद कर एक विधवा से साढ़े छह हजार रुपये वसूल लिए। वादा खिलाफी हुई तो विधवा ने कमिश्नर से न्याय की गुहार लगाई। मंडलायुक्त ने ठगी मामले को गंभीरता से लेते हुए तहसीलदार सदर को जांच सौंपी है। रेलकर्मी पति के दिवंगत होने पर विधवा वरासत एवं कृषक बीमा योजना का लाभ लेने को लेखपाल से मुलाकात की थी।
सदर तहसील के देवरिया खालसा गांव निवासी रेलवे कर्मी शैलेश कुमार की 20 अगस्त को घर से एक किमी. दूर पूर्वाचल एक्सप्रेस-वे के निकट एक गड्ढे में डूबने से मौत हो गई थी। शैलेश के नाम से तमाम जमीन भी है। उनकी पत्नी मंजू देवी लेखपाल से मुलाकात कर कृषक बीमा व वरासत की बात कही। आरोप है कि लेखपाल ने उनसे कृषक बीमा के नाम पर पहले पांच हजार रुपये वसूले लिए। उसके बाद वरासत के नाम पर डेढ़ हजार रुपया ले लिए। वरासत का वादा तो पूरा हो गया, लेकिन कृषक बीमा का लाभ नहीं मिलने पर विधवा मंजू बेटे के साथ मंडलायुक्त से मिलकर अपनी परेशानी बताई। कमिश्नर ने फोन से तहसीलदार पवन कुमार सिंह को जानकारी दीं। हालांकि, तहसीलदार ने मामला पहले से संज्ञान में होने की बात कही। वह लेखपाल से पांच हजार रुपये वापस दिला चुके हैं। तहसीलदार ने बताया कि शैलेश रेलवे में नौकरी करते थे, लिहाजा कृषक दुर्घटना बीमा का लाभ नहीं मिलेगा। लेखपाल ने झूठा आश्वासन देकर धोखाधड़ी की है। मंडलायुक्त ने कार्रवाई की संस्तुति करते हुए तहसीलदार को रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।






–– ADVERTISEMENT ––

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment