.

.

.

.

,

,
.

आजमगढ़ :वीर बिरसा मुंडा की जयंती पर मुख्य धारा से कटे हुए वनवासियों को मिला योजनाओ का लाभ

जनपद में मुसहर वर्ग के कुल 256 ग्राम हैं, जिसमें मुसहर वर्ग के कुल 3160 लाभार्थियों को चिन्हित किया गया 

आजमगढ़ 15 नवम्बर -- शक्ति और साहस के परिचायक एवं प्रमुख आदिवासी जन नायक वीर बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर जनपद में मुसहर वर्ग के लाभार्थियों को लाभान्वित करने हेतु राहुल प्रेक्षागृह में आयोजित मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) एवं भूमि विनियमतीकरण/आवंटन प्राधिकार स्वीकृत पत्र के वितरण कार्यक्रम का शुभारम्भ आयुक्त आजमगढ़ मण्डल आजमगढ़ कनक त्रिपाठी तथा जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह, भारतीय आदिवासी संस्था के हरिराम वनवासी, कमलेश वनवासी चन्डेश्वर मुमरखापुर व लल्लू भरथीपुर द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर तथा वीर बिरसा मुंडा के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया।
आयुक्त तथा जिलाधिकारी द्वारा सयंुक्त रूप से मुसहर समुदाय के व्यक्तियों को प्रतिकात्मक रूप से प्रत्येक विकास खण्डों के 23 व्यक्तियों को मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत आवास तथा पट्टों का विनियमतीकरण/आवंटन किया गया।
इस अवसर पर आयुक्त आजमगढ़ मण्डल आजमगढ़ कनक त्रिपाठी ने मुसहर वर्ग के समुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार द्वारा जो जन कल्याणकारी योजनाओं चलायी जा रही हैं, उसका लाभ समाज के अन्तिम व्यक्ति तक पहुॅचाना हमारी उच्च प्राथमिकता है। आयुक्त द्वारा जिलाधिकारी को इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने की सराहना की गयी। उन्होने मुसहर वर्ग लोगों से कहा कि सरकार द्वारा जो भी जन कल्याणकारी योजनाएं संचालित हैं, उसका पूरा लाभ उठायें और अपने मेहनत के बल पर अपना रास्ता खुद बनायें और शिक्षा पर विशेष जोर दें तथा अपने बच्चों को पढ़ने के लिए प्रेरित करें।
आयुक्त आजमगढ़ मण्डल आजमगढ़ ने कहा कि प्रत्येक बच्चों के अन्दर प्रतिभायें छिपी हुई हैं, बस उसे निखारने की जरूरत है। उन्होने कहा कि अपने समाज के आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक स्तर को बढ़ाने में सहयोग करें।
जिलाधिकारी ने वनवासियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आपका महत्व प्राचीन काल से ही है, रामायण में जब श्रीराम रावण पर चढ़ाई करने के लिए जा रहे थे तब वनवासियों द्वारा ही भगवान श्रीराम का युद्ध में सहयोग किया गया, जिसमें जामवंत, हनुमान, सुग्रीव, जटायु, नल-नील आदि लोगों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। महाभारत में भी पाण्डवों के अज्ञातवास के समय वनवासियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। इसी के साथ ही विष्णु गुप्त चाणक्य द्वारा अखण्ड भारत का सपना देखा गया था, उस समय यूनान के सिकन्दर को रोकने के लिए चन्द्रगुप्त मौर्य की तलाश की थी, तब चन्द्रगुप्त मौर्य ने कहा कि युद्ध के लिए हमारे पास सेना ही नही है, तब चाणक्य ने कहा कि वनवासियों से सहयोग लें, वे निःस्वार्थ भाव से आपका सहयोग करेंगे। इसीलिए वनवासियों का प्राचीन काल से ही इतिहास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में मुसहर वर्ग के कुल 256 ग्राम हैं, जिसमें मुसहर वर्ग के कुल 3160 लाभार्थियों को चिन्हित किया गया है, यह ऐसे व्यक्ति हैं, जो समाज की मुख्य धारा से कटे हुए हैं तथा ये भूमिहीन हैं, ये भीटे, तालाब, चारागाह पर रहते हैं, इनको समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत आवास, पुराने पट्टों का विनियमतीकरण तथा नये पट्टों का आवंटन हेतु कार्यक्रम आयोजित किया गया है। उन्होने बताया कि 02 माह के अन्दर अथक प्रयास से मुसहर समुदाय के लोगों को चिन्हित कर मुख्यमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2018-19 में 203 तथा वित्तीय वर्ष 2019-20 में 1935, इस प्रकार कुल 2138 आवास हेतु प्रथम किश्त का स्वीकृति पत्र दिया गया।
मुसहर समुदाय के लोगों को जमीन के पट्टे के विनियमतीकरण के अन्तर्गत फूलपुर में 23, मार्टीनगंज में 200, सगड़ी में 112, बूढ़नपुर में 38, मेंहनगर में 128, सदर में 22 तथा लालगंज में 24, इस प्रकार कुल 547 तथा जमीन हेतु नये पट्टांे के आवंटन के अन्तर्गत निजामाबाद में 80, सदर में 263 तथा लालगंज में 247, इस प्रकार कुल 590 लाभार्थियों को जमीन के पट्टे का प्राधिकार पत्र दिया गया। इस प्रकार जमीन के पट्टे के विनियमतीकरण में 547 तथा जमीन हेतु नये पट्टे के आवंटन में 590, कुल 1137 व्यक्तियों को जमीन का पट्टा किया गया।
जिलाधिकारी ने कहा कि यदि मुसहर समुदाय का कोई व्यक्ति उक्त योजना के लाभ से छूट गया है, तो वह व्यक्तिगत रूप से मिले तो उसे शत प्रतिशत लाभ दिलाया जायेगा।
आगे जिलाधिकारी ने डीसी एनआरएलएम को निर्देशित करते हुए कहा कि वनवासियों के प्रत्येक ग्रामों में मुसहर समुदाय की महिलाओं का राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत समूह से जोड़ें तथा उनको प्रशिक्षण दिलाकर बैंकों से लिंकेज करायें तथा उनको 06 माह के अन्दर आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान करें, जिससे वे स्वयं 3 से 4 हजार रू0 प्रतिमाह कमा सकें, जिससे उनके जीवन स्तर मे सुधार हो सके तथा स्वावलम्बी बन सकें।
जिलाधिकारी ने कहा कि मिशन वीर बिरसा मुंडा प्रोजेक्ट आजमगढ़ चलाया जा रहा है जिसके अन्तर्गत वनवासी गाॅव के जो भी पढ़े-लिखे बच्चे हैं, वे अपने प्रत्येक ग्राम में एक टीम बनायें और समुदाय के लोगांे को उसमें जोड़ें। जिलाधिकारी ने कहा कि वनवासी गाॅव में जो भी युवक-युवतियाॅ शिक्षित हैं, उनको कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत जोड़कर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जायेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी को सरकार द्वारा चलायी जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ा जायेगा।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार शुक्ला, सीआरओ हरी शंकर, पीडी अभिमन्यु सिंह, डीसी मनरेगा बीबी सिंह, डीसी एनआरएलएम बीके मोहन, डीडीओ रवि शंकर राय, जिला सूचना अधिकारी डाॅ0 जितेन्द्र प्रताप सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी राजेश कुमार यादव आदि उपस्थित रहे। 

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment