.

.

.

.

.

.

,

,
.

भाजपा अनुसूचित मोर्चा: भारतीय संविधान का पूरे विश्व में महत्वपूर्ण स्थान है -शेषनाथ आचार्य

बाबा साहब के सपने को साकार करते हुए पीएम मोदी ने शोषितों, वंचितो, दलितों के उत्थान के लिए तमाम जनकल्याणकारी योजनाएं चलाया है -सुक्खू राम भारती 

आजमगढ़: भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित मोर्चा के जिलाध्यक्ष सुक्खू राम भारती की अध्यक्षता में नेहरू हाल के सभागार में गुरूवार को संविधान दिवस के अवसर पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में मोर्चा के प्रदेश महामंत्री शेषनाथ आचार्य मौजूद रहे। इस दौरान बसपा छोड़कर श्रीमती राधा चौहान ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।
गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि शेषनाथ आचार्य ने कहाकि भारतीय संविधान का पूरे विश्व में महत्वपूर्ण स्थान है, जिसके निर्माता हमारे डा भीमराव अम्बेडकर ने संविधान को 26 नवंबर 1949 को समर्पित किया था। इस दिन को ऐतिहासिक बनाने के लिए भाजपा शीर्ष नेतृत्व के निर्देशानुसार अनुसूचित मोर्चा के तत्वावधान में पूरे देशभर में संविधान दिवस मनाया जा रहा है।
बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर को भारतीय संविधान का जनक कहा जाता है और उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य सामाजिक समानता थी। उनकी महान अनुकम्पा है कि उन्होंने हमें संविधान से अधिकार दिला कर समता, स्वतंत्रता, बंधुत्व व न्याय पर आधारित सामाजिक व्यवस्था का निर्माण किया तथा जाति विहीन समाज की स्थापना के लिए अपना समूचा जीवन बलिदान कर दिया। वे चाहते तो विदेशों में बसकर आराम से जीवन व्यतीत कर सकते थे परंतु उनके मन में दलितों शोषितो के प्रति दुख दर्द था इसलिए उनके उत्थान के लिए तमाम परेशानियों का सामना करते हुए अपने जीवन के अंत तक अनवरत संघर्ष करते रहे। उन्होंने यह कहा था कि शिक्षित बनो, संगठित रहो व संघर्ष करो। साथ ही उनका सपना था कि भारत आर्थिक रूप से समृद्ध हो, सामाजिक रूप से सशक्त हो और तकनीकि रूप से सक्षम हो।
अनुसूचित मोर्चा के जिलाध्यक्ष सुक्खू राम भारती ने कहाकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में 26 नवम्बर 2015 से संविधान दिवस मनाने की परम्परा शुरू हुई है। बाबा साहब अम्बेडकर ने जो सपना देखा था उसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने साकार करते हुए शोषितों, वंचितो, दलितों के उत्थान के लिए तमाम जनकल्याणकारी योजनाएं चलाया है।
इस दौरान अनुसूचित जाति जन जाति के सदस्य तीजाराम ने कहाकि बाबा साहब अम्बेडकर के सम्मान में उनके जीवन से जुड़े पांच महत्वपूर्ण स्थानों को जिसमे महु में बाबा साहब की जन्मभूमि, लंदन में डा अम्बेडकर मेमोरियल, उनकी शिक्षा भूमि, नागपुर में उनकी दीक्षा भूमि, मुम्बई में चैत्य भूमि व दिल्ली में परिनिर्माण भूमि को पंच तीर्थ के रूप में विकसित करने का कार्य भाजपा सरकार ने किया गया है।
उनकी याद में उन स्मारकों का तेजी से निर्माण कार्य शुरू किया गया जिनके सपने वर्षो से देखे जा रहे थे। रिकार्ड समय में उनकी याद में इंटरनेशनल सेंटर और राष्ट्रीय स्मारकों को निर्धारित समय में पूरा किया गया। इसके अलावा बाबा साहब के याद में 14 अप्रैल को हर वर्ष समरसता दिवस और 26 नवम्बर को उनके द्वारा बनाया गया भारतीय संविधान को दिवस के रूप मनाने का फैसला किया गया।
गोष्ठी में अशोक सोनकर, ंमंजू सरोज, नन्हकू सरोज, कुसुमलता बौद्ध, विनय प्रकाश गुप्त, विवेक निषाद, रामनरेश गौतम, पूमन मौर्य, सौदागर भारती, राकेश राम, लहूरी राम, चन्द्रिका प्रसाद, ज्ञान चन्द, किरन बिंद, मनोज, मोहन लाल, डा सहदेव आदि मौजूद रहे। संचालन जिला उपाध्यक्ष संजय राम ने किया।  

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment