.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: मण्डलायुक्त ने 5 वर्ष से अधिक से लम्बित राजस्व वादों के कम निस्तारण पर माँगा जवाब

स्पष्टीरकण प्राप्त कर कार्यवाही हेतु प्रस्ताव एक सप्ताह के अन्दर उपलब्ध करायें -जगतराज ,मंडलायुक्त 

आज़मगढ़ : -- मण्डलायुक्त जगत राज ने मण्डल के जनपदों में स्थापित राजस्व न्यायालयों में वादों के निस्तारण की समीक्षा के दौरान पाया कि तीनों जनपदों के राजस्व न्यायालयों में 5 वर्ष तथा उससे अधिक अवधि के लम्बित राजस्व वादों के निस्तारण की स्थिति शासन एवं राजस्व परिषद द्वारा निर्धातर मानक से बहुत कम है। मण्डलायुक्त द्वारा आरसीसीएमएस (राजस्व न्यायालय कम्प्यूटरीकृृत प्रबन्धन प्रणाली) पर मासान्त फरवरी तक के उपलब्ध विवरण के आधार पर 5 वर्ष तथा उससे अधिक अवधि के लम्बित वादों के निस्तारण की स्थिति का जायज़ा लेने पर स्पष्ट हुआ कि जनपद आज़मगढ़ में उपजिलाधिकारी सदर, मेंहनगर व मार्टिनगंज, तहसीलदार मेंहनगर, नायब तहसीलदार जहानागंज, मुबारकपुर, निज़ामाबाद, निज़ामाबाद, लालगंज, मेंहनगर, अतरौलिया, बिलरियागंज के न्यायालय में माह फरवरी में 5 वर्ष तथा उससे अधिक अवधि के लम्बित किसी भी वाद का निस्तारण नहीं किया गया है। इसी प्रकार जनपद बलिया में अपर जिलाधिकारी-द्वितीय, अपर जिलाधिकारी-वित्त एवं राजस्व, उपजिलाधिकारी बेल्थरारोड, तहसीलदार (न्यायिक) बलिया, तहसीलदार बेल्थरारोड, नायब तहसीलदार सिकन्दरपुर, नायब तहसीलदार रेवती के न्यायालय में तथा जनपद मऊ में अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) एवं नायब तहसीलदार मुहम्मदाबाद गोहना के न्यायालय में भी गत माह में कोई निस्तारण नहीं किया गया है। इसके अलावा जनपद आज़मगढ़ में अपर जिलाधिकारी (प्रशासन), अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व), मुख्य राजस्व अधिकारी, अतिरिक्त अधिकारी-प्रथम, तहसीलदार सदर, फूलपुर, बूढ़नपुर, सगड़ी, नायब तहसीलदार नगर, अठरहा फूलपुर, पवई, लालगंज, अजमतगढ़, महराजगंज, हरैया में इस श्रेणी के वादों का निस्तारण बहुत ही कम किया गया है। इसी प्रकार जनपद बलिया में सिकन्दरपुर, सदर, बैरिया, बाॅंसडीह, रसड़ा के उपजिलाधिकारियों द्वारा तथा तहसीलदार बलिया, रसड़ा, बैरिया, बाॅंसडीह, नायब तहसीलदार मनियर, गड़वार, गडहा, नगर, चिलकहर, रसड़ा, बैरिया, सुरेमनपुर, बाॅंसडीह, भीमपुरा व सीयर द्वारा तथा जनपद मऊ में मुख्य राजस्व अधिकारी, अपर जिलाधिकारी, तहसीलदार मऊनाथ भंजन, घोसी, मुहम्मदाबाद गोहना, नायब तहसीलदार घोसी व मधुबन द्वारा भी अत्यन्त कम निस्तारण किया गया है।
मण्डलायुक्त जगत राज ने तीनों जनपद के राजस्व न्यायालयों में बड़ी संख्या में 5 वर्ष तथा उससे अधिक अवधि के लम्बित वादों के सापेक्ष निस्तारण की वर्तमान स्थिति पर असन्तोष व्यक्त करते हुए तीनों जनपद के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन पीठासीन अधिकारियों के निस्तारण की स्थिति नगण्य अथवा कम है, उनसे स्पष्टीरकण प्राप्त कर उनके विरुद्ध कार्यवाही हेतु अपनी संस्तुति सहित प्रस्ताव एक सप्ताह के अन्दर उपलब्ध करायें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि राजस्व वादों का निस्तारण शासन एवं राजस्व परिषद द्वारा निर्धारित मानकों के अनुरूप लाने हेतु इसकी नियमित रूप से समीक्षा भी की जाय।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment