.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

विकास कार्यों में गति लाएं,शान्ति व्यवस्था हेतु असामाजित तत्वों पर पैनी नज़र रखें: मण्डलायुक्त

मण्डलीय समीक्षा बैठक से अनुपस्थित रहने पर तीन अधिकारियों से तलब किया स्पष्टीकरण आज़मगढ़ 13 सितम्बर-- मण्डलायुक्त जगत राज ने कहा कि जनपदीय अधिकारियों द्वारा विकास कार्यों के निरीक्षण हेतु नियमित भ्रमण की कमी तथा अधीनस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों के माध्यम से प्रगति की नियमित समीक्षा न किये जाने के कारण विकास कार्यक्रमों में अपेक्षित गति परिलक्षित नहीं हो रही है। इसके अलावा जो कार्य कराये जा रहे हैं उसकी आनलाइन फीडिंग की स्थिति भी काफी खराब है, जिसके कारण राज्य स्तर पर मण्डल की ग्रेडिंग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। मण्डलायुक्त जगत राज ने वृहस्पतिवार को अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों तथा कानून व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रायः त्योहारों के अवसर पर शरारती और असामाजिक तत्व अपनी हरकतों से अव्यवस्था फैलाने की कुचेष्ठा करते हैं, इसलिए ऐसे असामाजिक तत्वों पर पैनी नज़र रखें तथा कोई भी जिला बदर अभिुक्त किसी भी दशा में सम्बन्धित जनपद की सीमा के अन्दर नहीं मिलना चाहिए। अपने विभाग से सम्बन्धित प्रगति की जानकारी देने हेतु समीक्षा बैठक में मुख्य अभियन्ता विद्युत तथा मऊ एवं बलिया जिला पूर्ति अधिकारी उपस्थित नहीं थे। इसपर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए मण्डलायुक्त ने इन तीनों अधिकारियों से स्पष्टकरण तलब किया।
मण्डलायुक्त जगत राज ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान पाया कि संस्थागत प्रसव में प्रदेश स्तर पर जनपद बलिया बी ग्रेड में, जेई टीकाकरण द्वितीय डोज़ में भी बलिया को सी ग्रेड में पाये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने अपर निदेशक स्वास्थ्य को नियमित रूप से बलिया का भ्रमण कर अपेक्षित प्रगति लाने का निर्देश दिया। इसी प्रकार डेंगू एईएस से ग्रसित दो मरीज जनपद मऊ में पाये गये थे जिनकी मृृत्यु हो चुकी है जिसके कारण डेंगू एईएस टीकाकरण में जनपद मऊ डी में पाया गया है। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया कि टीकाकरण कार्यक्रम को पूरी गंभीरता से लिया जाये तथा सुनिश्चित किया जाय कि आवश्यकतानुसार टीकाकरण समय से किया जाय। मण्डलायुक्त ने स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत शौचालय निर्माण की प्रगति की समीक्षा करते हुए कहा कि बार-बार निर्देश दिये जाने के बावजूद जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा निरीक्षण नहीं किया जा रहा है, जिसके कारण अपेक्षित परिणा नहीं मिल पा रहे हैं। उन्होंने मण्डल के तीनों जनपदों में जीईओ टैगिंग की खराब स्थिति पर भी नाराजगी व्यक्त किया तथा निर्देश दिया कि सीडीओ, डीडीओ, पीडी सहित सभी अधिकारी नियमित रूप से निरीक्षण करें तथा कार्यक्रमों हेतु नामित नोडल अधिकारियों एवं कर्मचारियों से भी प्रतिदिन समीक्षा करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जो शौचालय शेष हैं उसकी सूची अद्यतन कर उस पर विशेष ध्यान दें। मण्डलायुक्त जगत राज ने तीनों जनपद के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि निरीक्षण के दौरान सुनिश्चित कर लिया जाय कि जिन शौचालयों की जीईओ टैगिंग हो चुकी है वह हर हालत मंे पूर्ण मिलना चाहिए तथा किसी भी दशा में फर्जी टैगिंग नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रायः शिकायतें मिल रही हैं कि पर्याप्त संख्या में शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण हो जाने के उपरान्त भी उसकी फोटोग्राफी नहीं करायी जा रही है, जो आपत्तिजनक है। उन्होंने निर्देश दिया कि पूर्ण शौचालयों की फोटोग्राफी तत्काल कराते हुए उसकी आनलाई फीडिंग कराई जाय। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के अन्तर्गत तीनों जनपदों में वित्तीय प्रगति के सापेक्ष भौतिक प्रगति कम है, इसलिए इस गैप को तत्काल पूरा किया जाय।
मण्डलायुक्त जगत राज ने लाभार्थीपरक योजनाओं के सत्यापन की स्थिति का जायज़ा लेते हुए प्रोबेशन विभाग द्वारा आज़मगढ़ में सत्यापन का कार्य शून्य पाये जाने पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि पात्र लाभार्थियों का सत्यापन ग्राम पंचायत अधिकारियों के माध्यम से तत्काल शुरू कराया जाये इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता नहीं होनी चािहए। इसी प्रकार पात्र गृहस्थी योजना में भी आज़मगढ़ का सत्यापन ज़ीरो पाया गया। इस पर उन्होंने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देशित किया कि पूर्ति निरीक्षकों के माध्यम से तत्काल सत्यापन कराते हुए अग्रेतर कार्यवाही की जाय। उन्होंने वृक्षारोपण के सम्बन्ध में कहा कि इस कार्यक्रम हेतु जिन विभागों को लक्ष्य आवंटित किया गया है उसके सापेक्ष जितने वृक्षारोपण किये गये हैं उसकी भी जीईओ टैगिंग की जानी है, इसलिए सम्बन्धित विभाग वृक्षारोपण की फोटोग्राफी तत्काल करा कर उसे पोर्टल पर अपलोड करायें। मण्डलायुक्त ने मनरेगा के तहत आज़मगढ़ के तरवाॅं व हरैया ब्लाक में, बलिया के दुबहड़ व रसड़ा में तथा मऊ के दोहरीघाट ब्लाक में वर्ष 2017-18 के भुगतान लम्बित पाये जाने पर नाराजगी जाहिर करते हुए मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि इनके भुगतान की कार्यवाही तत्काल पूरी की जाय। उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जो भी कार्य कराये जा रहे हैं समय से उसकी आनलाइन फीडिंग अवश्य करायें। मण्डलायुक्त ने कहा कि किसानों के हितों को दृृष्टिगत रखते हुए शासन द्वारा जो योजनायें संचालित हैं, उसके व्यापक प्रचार प्रसार में कमी के कारण किसानों को उसकी जानकारी नहीं हो पा रही है, जिसके कारण किसान लाभान्वित होने से वंचित रह जाते हैं। उन्होंने संयुक्त कृृषि निदेशक को निर्देश दिया कि किसान हित से सम्बन्धित योजनाओं का व्यापक प्रचार प्रसार कराया जाये तथा हर पात्र कृृषक को उससे लाभान्वित किया जाय।
मण्डलायुक्त ने मण्डल में कानून व्यवस्था की स्थिति का जायज़ा लेते हुए तीनों जनपद के पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिया कि आगामी दिनों में पड़ने वाले त्योहारों पर शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए थानावार शांति समितियों की बैठकें तत्काल करा ली जायें तथा बैठकों के माध्यम से सभी को अवगत करा दिया जाय कि त्योहारों किसी नई परम्परा की शुरूआत नहीं होने दी जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि जनपदों में लागू धारा 144 का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाय। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया कि त्योहारों के सम्बन्ध में पाॅंच वर्ष के अन्दर के जो विवादित मामले हैं उस ओर विशेष ध्यान देकर उन जगहों पर शांति व्यवस्था बनाये रखने के कड़े इन्तजाम किये जायें। बैठक में डीआईजी विजय भूषण ने यातायात व्यवस्था के सम्बन्ध में निर्देश दिया कि आज़मगढ़ में रेलवे लाइन पर ओवर ब्रिज बन जाने के बावजूद कुछ वाहन रेलवे लाइन को क्रास करके संचालित हैं जिस पर सख्ती से रोक लागाई जाय। उन्होंने यह भी बताया कि पूरे मण्डल में 138 जगहें ऐसी हैं जहाॅं से स्कूल बसें रेलवे लाइन को क्रास करके आ जा रही हैं। इस पर मण्डलायुक्त ने संभागीय परिवहन अधिकारी को निर्देश दिया कि ऐसे स्थलों पर बोर्ड लगवायें। इसके अलावा बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए स्कूल बसों की चेकिंग भी करें तथा मुख्य सड़कों पर जहाॅं स्कूल स्थापित हैं वहाॅं बोर्ड लगवाये जायें।
इस अवसर पर जिलाधिकारी आज़मगढ़ शिवकान्त द्विवेदी, जिलाधिकारी बलिया भवानी सिंह खंगारौत, जिलाधिकारी मऊ प्रकाश बिन्दु, पुलिस अधीक्षक आज़मगढ़ रवि शंकर छवि, पुलिस अधीक्षक बलिया सुश्री श्रीपर्णा गांगुली, अपर आयुक्त (प्रशासन) राजेन्द्र कुमार, संयुक्त विकास आयुक्त हरिश्चन्द्र वर्मा, सीडीओ आज़मगढ़ कमलेश कुमार सिंह, सीडीओ बलिया बद्रीनाथ सिंह एवं सीडीओ मऊ आशुतोष कुमार द्विवदी, अपर निदेशक स्वास्थ्य डा0 एनएल यादव, मुख्य राजस्व अधिकारी आज़मगढ़ आलोक वर्मा, उप आबकारी आयुक्त एसपी चैधरी, उप निदेशक पंचायती राज जयदीप त्रिपाठी, उप निदेशक अर्थ एवं संख्या राजाराम यादव, संभागीय परिवहन अधिकारी दरोगा सिंह सहित अन्य सम्बन्धित मण्डल एवं जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।


Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment