.

.

.

.

.

.

.

.
.

अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों की आड़ में चेहते शिक्षकों कर दिया गया स्थानांतरण


जिले के विभाग अधिकारियो द्वारा दोषपूर्ण तरीके से विद्यालयों का चयन किया गया - अनीता साईलेस
कॉउंसलिंग कराने की मांग ले कर शिक्षकों ने किया प्रदर्शन
आजमगढ़:: प्रदेश के बेसिक शिक्षा सचिव के निर्देश पर जिले के 22 ब्लॉकों में तो खुलने थे 5 --5 अंग्रेजी माध्यम के स्कूल और इन स्कूलों में 1 प्रधानाध्यापक सहित कुल चार अध्यापको को देनी है शिक्षा लेकिन इसकी आड़ में जिले में कर दिये गए स्थानांतरण । इस खेल में पात्रता परीक्षा में पास कई अध्यापको की काउंसलिग ही विभाग ने कराया ही नहीं और उन अध्यापको को उन्ही के चयनित इंग्लिश विद्यालयों पर ही रोक दिया गया । इनका कसूर सिर्फ इतना था कि वह विभाग के कराये गए परीक्षा में सम्मिलित होकर पास भी हो गए । पर अन्य स्कूलों के पास अध्यापक तो अपने चहेते ब्लॉकों में चले गए । जबकि उनकी माने तो उन्हें भी इच्छित जगह के इंग्लिश स्कूलों में तैनाती किये जाने का भी निर्देश था शासन से। इसी क्रम में शनिवार को काउंसलिंग से वंचित हुए अध्यापको के समूह ने मेहता पार्क में बैठक कर अपना विरोध दर्ज कराया। बैठक को संबोधित करती हुई जिले के प्राथमिक शिक्षक संघ की जिलाध्यक्ष अनीता साइलेश मसीह ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि इस पूरे मामले में ही शुरुआत से ही जिले के विभाग अधिकारियो द्वारा दोषपूर्ण तरीके से विद्यालयों का चयन किया गया। उन्होंने कहा की दो कमरे वाले विद्यालयों को भी शासन की मंशा के विपरीत चयनित कर उन्हें इंग्लिश मीडियम बना दिया गया, इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उनका आरोप है की दो बार काउंसलिंग का नाटक करा अपने चहेते अध्यापको को तैनाती कराई गयी है । 

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment