.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

बेहतर यही है कि कालाधन व अवैध सम्पति की धोषण करे- आयकर आयुक्त विजय कुमार


कालाधन रखने वालों को आयकर आयुक्त ने दिया संदेश

आजमगढ़। प्रमुख आयकर आयुक्त गोरखपुर परिक्षेत्र विजय कुमार ने बुधवार को यहां आयकर दाताओं और कर वकीलों की सभा  को सम्बोधित करते हुए 30 जून से 30 सितम्बर 2016 तक चलने वाली अवैध सम्पति और कालेधन के स्कीम के अन्तर्गत लोगों से स्वत: धोषणा की अपील करते हुए कहा जिनके पास कालाधन और अघोशित सम्पति वह देश में हो या विदेश में यदि योजना के अन्तर्गत लाभ उठाने से वंचित रहे तो उन्हें  भी  सांसत झेलनी पड़ सकती है।
आज यहां शिब्ली कालेज के सभागार में काली सम्पति और कालेधन रखने वालों को सलाह देते उन्होने कहा जिनके पास अवैध धन सम्पति है वे मन में सोचतें हों कि ऐसी योजना तो पहले भी  चली थी पर क्या हुआ? वे भरम  मे न रहे । ऐसे लोगों से अपील है वे वर्तमान योजना का गहराई से अध्ययन करें तो पाएगें कि यह बहुत सोच विचार करने के बाद लांच की गयी है। अब उसकी अनदेखी कालेधन और अवैध सम्पति रखने वालों को बहुत भारी  पड़ेगी। उन्होनें सख्त संदेश में कहा एक जमाने के लिकर किंग विजय माल्या दुनिया के किसी देश में रहें यह नया प्रावधान और कानून उन्हें चैन नहीं लेने देगा। अब तक चल रहे कालेधन को सफेद धन में बदलने वालों की बुद्धिमानी भारी पड़ेगी । उन्होने कहा वित्तीय और सम्पति लेनदेन की सूचना अनेक स़्त्रातों से सरकार के पास आ रहीं हैं ऐसे में यदि कोई चाहे कि वह बच निकलेगा वह तो लाख प्रयास के बावजूद नहीं बच सकता। कालाधन और सम्पति दिखाइए उसकी मुल्य का 45 प्रतिशत टैक्स दीजिये और चैन से सोइए। ।उन्होने कहा जैसे किसी ने बेनामी प्लाट खरीदा और उस पर बिल्डिंग भी  बनवा ली या दूसरी सम्पति हो तो बुद्धिमानी उसी में है कि योजना का लाभ  उठाले। यदि सिद्ध नहीं कर पाए कि वह वैध ढंग से खरीदी गयी सम्पति है तो जब्त तो होगी आगे की कार्रवाई भी  होगी।
आयकर अधिवक्ता बेग साहब ने आयुक्त के सामने सवाल खड़ा करते पूछा कि मान लिया जाय कि स्कीम में घोषणा जिसमें कर का प्रतिषत 45 है क्यों न हम वर्तमान में भरे  जाने वाले टैक्स रिटर्न में उसे घोषित कर दे तो मुवक्किल को 45 की जगह 30 से 35 प्रतिशत टैक्स टैक्स ही देना पड़ेगा। उसके जवाब में आयुक्त ने कहा कि उस तरीके से आपका मुवक्किल बच नहीं पाएगा। उस सम्पति की छानबीन होगी और वास्तविकता सामने आने पर और बड़ी परेशानी उनके मुवक्किल को झेलना पड़ेगा। उसी तरह उ.प्र टैक्स बार एसासिएशन की पूर्व अध्यक्ष अरविन्द गुप्ता ने अपनी और करदाताओं की जिज्ञासा शांत करने के लिए कई सवाल खड़े किए जिसका जवाब देने हुए विजय कुमार ने कहा कि कितना भी जतन कर लें लेकिन जिन लोगों ने पहले की बनायी अपनी बेनामी नगदी या सम्पति है उनके हित में है वे सीधे वर्तमान योजना का लाभ  लें और सम्पति के मूल्य का 45 प्रतिशत टैक्स सरकारी खजाने में जमा कर राहत की सांस लें। उन्होनें कहा कि इस तीन माह की योजना इस ढंग से बनायी गयी है चाहे आप कितने भी  ताकतवर हों प्रशासन में आपकी हनक हो राजनीति से जुड़े हों लेकिन बच नहीं सकेंगें । इस योजना से बचने की कालाधन अवैध सम्पति रखने वाला यदि इधर उधर की कोशिश करेगा और सांसत झेलनी पड़ेगा। उन्होने शंका का समाधान करते कहा आयकर के वर्तमान कानून में जो आप रिटर्न दाखिल करतें हैं और उस पर जो कर जमा किए उसे उसी रूप में करीब करीब सही मान लिया जाता है। परंतु 30 जून से शुरू होने वाली योजना कुछ और है उसमें कालेधन या गैर कानूनी ढंग से खड़ी की गयी सम्पति को छिपाना बहुत बड़े घाटे का सौदा होगा। अपर आयकर आयुक्त आर के विश्वकर्मा सहित आयकर के अतिरिक्त राजकरन यादव सहित अनेक कर्मचारी उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment